झूलन गोस्वामी को टीम इंडिया ने दी शानदार विदाई, वनडे सीरीज में इंग्लैंड का किया सूपड़ा साफ

Jhulan Goswami
ANI
अंकित सिंह । Sep 24, 2022 10:35PM
इंग्लैंड की टीम महज 153 रनों पर सिमट गई। ऐसे में भारतीय टीम को 16 रनों से शानदार जीत मिली है। इंग्लैंड की शुरुआत अच्छी रही थी और 27 रन बिना विकेट खोए बनाए। लेकिन इसके बाद भारतीय गेंदबाजों ने अपना कमाल दिखाया।

भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने लॉर्ड्स में शानदार प्रदर्शन किया है। इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स में खेले गए तीसरे मुकाबले में मेजबान टीम को 16 रनों से हरा दिया है। इसके साथ ही सीरीज पर 3-0 से कब्जा किया है। आज का मुकाबला भारत की झूलन गोस्वामी का आखिरी मुकाबला था। भारतीय टीम ने झूलन गोस्वामी को यादगार विदाई दी है। पहले बल्लेबाजी करते हुए भारतीय टीम ने 169 रन बनाए थे। जीत के लिए इंग्लैंड की टीम को 170 रनों की दरकार थी। हालांकि, भारतीय गेंदबाजी अटैक के सामने इंग्लिश बल्लेबाजों ने घुटने टेक दिए। इंग्लैंड की टीम महज 153 रनों पर सिमट गई। ऐसे में भारतीय टीम को 16 रनों से शानदार जीत मिली है। इंग्लैंड की शुरुआत अच्छी रही थी और 27 रन बिना विकेट खोए बनाए। लेकिन इसके बाद भारतीय गेंदबाजों ने अपना कमाल दिखाया। 

इसे भी पढ़ें: टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में नए ‘सिक्सर किंग’ बने भारतीय कप्तान रोहित शर्मा

इस जीत के साथ ही भारतीय महिला टीम ने इंग्लैंड का सूपड़ा साफ कर दिया है। यह पहला मौका है जब मेजबान टीम का उसकी सरजमीं पर सूपड़ा साफ किया। लो स्कोरिंग मुकाबले में भारत की जीत के स्टार दीप्ति शर्मा और रेणुका ठाकुर रहीं। दीप्ति ने 68 रनों की शानदार पारी खेली और 1 विकेट भी चटकाए। वहीं, रेणुका ठाकुर ने अपनी कहर बरपाती गेंदों से इंग्लैंड के चार बल्लेबाजों को आउट किया। वहीं, अपना आखिरी मुकाबला खेलने वाली झूलन गोस्वामी ने 30 रन देकर दो विकेट चटकाए। राजेश्वरी गायकवाड़ के खाते में भी दो विकेट आए हैं। टॉस हारकर भारतीय टीम पहले बल्लेबाजी करने उतरी थी। भारत की टीम भी 45.4 ओवर में 169 रन बनाकर ढेर हो गई थी। भारत की ओर से स्मृति मंधाना ने 50 और दीप्ति शर्मा ने 68 रनों की पारी खेली।

इसे भी पढ़ें: भारतीय राजनीति, क्रिकेट टीम लोकतंत्र के मजबूत होने का सबसे समावेशी उदाहरण हैं: जयशंकर

शेफाली वर्मा, यस्तिका भाटिया और कप्तान हरमनप्रीत कौर आज के मुकाबले में कुछ खास कमाल नहीं कर सकीं। लेकिन स्मृति मंधाना ने एक छोड़ को संभाले रखा था। बाद में दीप्ति शर्मा से उन्हें साथ मिला और दोनों ने मिलकर 58 रनों की साझेदारी की। इंग्लैंड की ओर से चार्ली डीन ने सर्वाधिक 47 रन बनाए। उन्होंने 80 गेंद की अपनी पारी में पांच चौके जड़े। कप्तान ऐमी जोन्स (28) और सलामी बल्लेबाज ऐमा लैंब (21) अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में बदलने में नाकाम रहे। इंग्लैंड के खिलाफ ही चेन्नई में छह जनवरी 2002 को जीत के साथ अंतरराष्ट्रीय पदार्पण करने वाली झूलन के लिए यह श्रृंखला यादगार रही। 

अन्य न्यूज़