पुलिस कैसे एक महिला को सीआरपीसी के तहत गिरफ्तार कर सकती है?

पुलिस कैसे एक महिला को सीआरपीसी के तहत गिरफ्तार कर सकती है?

हर कानून एक विधायी इरादे के साथ लागू किया जाता है। इसी तरह इस कानून को लागू करने के पीछे का कारण महिलाओं की सतीत्व की रक्षा करना और उन्हें पुलिस द्वारा कथित अनावश्यक उत्पीड़न से बचाना है।

क्या है गिरफ्तारी?

आम तौर पर कानून तोड़ने वाले व्यक्ति को गिरफ्तार किया जाता है। सामान्य शब्दों में 'गिरफ्तारी' का मतलब यह होता है कि जब किसी व्यक्ति को गिरफ्तार किया जाता है तो वे अपनी स्वतंत्रता और स्वाधीनता कुछ हद तक खो देते हैं। उन्हें सख्ती और नियंत्रण में रखा जाता है। 

इसे भी पढ़ें: साल 2020 में इन योजनाओं को लेकर आई मोदी सरकार, आमजन को हो रहा सीधा फायदा

क्या है सीआरपीसी (CrPC) ?

दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 (Code of Criminal Procedure, 1973) भारत में आपराधिक कानून के क्रियान्वयन के लिये एक मुख्य कानून है। यह सन् 1973 में पारित हुआ तथा 1 अप्रैल 1974 से लागू हुआ। 'सीआरपीसी' दंड प्रक्रिया संहिता का संक्षिप्त नाम है।

हर कानून एक विधायी इरादे के साथ लागू किया जाता है। इसी तरह इस कानून को लागू करने के पीछे का कारण महिलाओं की सतीत्व की रक्षा करना और उन्हें पुलिस द्वारा कथित अनावश्यक उत्पीड़न से बचाना है। यहां तक कि अगर किसी महिला को असाधारण परिस्थितियों में गिरफ्तार किया जाना है, तो ऐसी गिरफ्तारी किसी महिला पुलिस अधिकारी द्वारा की जाएगी और ऐसी गिरफ्तारी से पहले स्थानीय न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी से अनुमति लेनी होगी। इसलिए मूल रूप से विधायिकाओं ने यह सुनिश्चित किया है कि किसी महिला द्वारा किए गए अपराध की परवाह किए बिना, उसकी सतीत्व को सर्वोपरि महत्व दिया जाएगा और उसमें किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा।

यदि पुलिस अधिकारी सूर्यास्त के बाद और सूर्योदय से पहले महिला को गिरफ्तार करना चाहता है, तो ऐसी गिरफ्तारी के लिए असाधारण परिस्थितियाँ होनी चाहिए। ऐसे मामलों में जहाँ ऐसी असाधारण परिस्थितियाँ मौजूद होती हैं, एक लेडी पुलिस अधिकारी एक लिखित रिपोर्ट तैयार करेगी और न्यायिक मजिस्ट्रेट, प्रथम श्रेणी की पूर्व अनुमति प्राप्त करेगी, जिसके अधिकार क्षेत्र में अपराध किया गया है या गिरफ्तारी की जानी है।

इसे भी पढ़ें: किसान उदय योजना: सरकारी पंप सेट से सिंचाई करना होगा आसान

महिलाओं की गिरफ्तारी

दंड प्रक्रिया संहिता (संशोधन अधिनियम) 2005 ने संहिता की धारा 46 में एक नया उपधारा (4) जोड़ा है, जो निम्नलिखित आवश्यकताओं के साथ महिलाओं की गिरफ्तारी के लिए विशेष प्रक्रिया प्रदान करता है:

1. गिरफ्तारी सूर्यास्त से पहले और सूर्योदय के बाद की जाएगी

2. गिरफ्तारी केवल एक महिला पुलिस अधिकारी द्वारा की जाएगी

3. गिरफ्तार करने वाला पुलिस अधिकारी न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी (कार्यकारी मजिस्ट्रेट नहीं) से ऐसी गिरफ्तारी की अनुमति प्राप्त करेगा, जिसके स्थानीय क्षेत्राधिकार में

(i) अपराध को अंजाम दिया गया है

(ii) गिरफ्तारी की जानी है

हालांकि, किसी महिला की गिरफ्तारी को उपरोक्त तीन आवश्यकताओं के अनुपालन के बिना भी प्रभावित किया जा सकता है, यदि ऐसी गिरफ्तारी के लिए असाधारण परिस्थितियां मौजूद हैं।

अपनी आधिकारिक क्षमता / कर्तव्यों में कार्य करने वाले पुलिस अधिकारी विधायी इरादे को विफल नहीं कर सकते हैं, जो संहिता की धारा 46 की उपधारा (4) के सम्मिलन के आधार पर महिला को सुरक्षा प्रदान करता है और पुलिस अधिकारियों को गिरफ्तारी पर रोक लगाता है, सिवाय अपरिहार्य परिस्थितियों के। और अगर अपरिहार्य स्थिति मौजूद हैं, तो केवल न्यायिक मजिस्ट्रेट, प्रथम श्रेणी की पूर्व अनुमति के साथ, एक महिला को सूर्यास्त के बाद और सूर्योदय से पहले गिरफ्तार किया जा सकता है।

यह सच है कि असाधारण परिस्थितियों में एक उपयुक्त मामले में सूर्यास्त के बाद और सूर्योदय से पहले महिलाओं की गिरफ्तारी आवश्यक हो सकती है।

और सबसे महत्वपूर्ण बात है कि लड़कियों और महिलाओं को महिला कांस्टेबलों / पुलिस अधिकारियों द्वारा संरक्षित किया जाना चाहिए और यदि कोई पूछताछ की जाती है, तो उसे महिला पुलिस की उपस्थिति में किया जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: जानिए सांसद आदर्श ग्राम योजना की सार्थकता एवं महत्त्व

क्या हैं कानूनी प्रावधान?

- अगर किसी केस में किसी महिला से पूछताछ करनी है और दिन ढल चुका है तो पुलिस को उस महिला के घर जाकर पूछताछ करनी होगी।

- यह पूछताछ या जांच कोई महिला पुलिस ही कर सकती है;  कोई पुरुष पुलिसकर्मी नहीं कर सकता है।

- बहुत कम लोगों को यह बात पता है कि हथकड़ी क़ानून किसी महिला के लिए नहीं है। हालांकि, हथकड़ी तभी लगाई जा सकती है जब जांच के लिए आये पुलिस अधिकारी के पास कोर्ट का कोई आदेश हो।  मुख्य रूप से जब अधिकारी को यह अंदेशा हो कि महिला भाग सकती है या फिर उसका कोई आपराधिक रिकॉर्ड हो।

- महिला अगर गर्भवती है तो उसके साथ कोई उसका सहयोगी होना चाहिए।

- अगर कोई लड़की नाबालिग है तो पूछताछ के दौरान उसके अभिभावक या माता-पिता का साथ होना ज़रूरी हो जाता है।

- पुलिस के लिए यह बताना अनिवार्य है कि महिला को किस धारा के अंतर्गत गिरफ्तार किया जा रहा है और उसे गिरफ्तारी के बाद कहाँ रखा जायेगा। जिस भी पुलिस स्टेशन उसे ले जाया जायेगा, वहां महिला पुलिस अधिकारी का होना आवश्यक है।

- गिरफ्तारी के 24 घंटे के भीतर उक्त महिला को मजिस्ट्रेट के सामने पेश करना आवश्यक है।

- जे. पी. शुक्ला