ई-श्रम कार्ड क्या है और क्या है इसकी पात्रता और लाभ; कैसे करें अप्लाई

ई-श्रम कार्ड क्या है और क्या है इसकी पात्रता और लाभ; कैसे करें अप्लाई
Prabhasakshi

श्रम और रोजगार मंत्रालय ने हाल ही में पूरे भारत में गैर-मान्यता प्राप्त क्षेत्र के श्रमिकों के बारे में पूरी जानकारी एकत्र की है। इसका मुख्य उद्देश्य प्रत्येक निर्माण श्रमिक, प्रवासी श्रमिक और प्लेटफॉर्म वर्कर, स्ट्रीट वेंडर, घरेलू कामगार, कृषि कार्यकर्ता आदि का एक केंद्रीकृत डेटाबेस बनाना है।

भारत सरकार ने असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों और मजदूरों के कल्याण के लिए ई-श्रम पोर्टल योजना नाम से एक नई योजना शुरू की है। ई-श्रम पोर्टल प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉन्च किया गया है। भारत के श्रम और रोजगार मंत्रालय ने असंगठित क्षेत्र के मजदूरों और श्रमिकों के बारे में सभी जानकारी और डेटा को ट्रैक और एकत्र करने के लिए ई-श्रम पोर्टल शुरू किया है। एकत्रित डेटा का उपयोग नई योजनाओं को शुरू करने, नई नीतियां बनाने, असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों और मजदूरों के लिए अधिक रोजगार के अवसर पैदा करने के लिए किया जाएगा।

ई-श्रम (E-SHRAM) क्या है?

श्रम और रोजगार मंत्रालय द्वारा विकसित ई-श्रम पोर्टल असंगठित श्रमिकों का एक राष्ट्रीय डेटाबेस बनाने के लिए बनाया गया है जिसे किसी व्यक्ति के आधार के साथ जोड़ा जाता है। डेटा में नाम, व्यवसाय, पता, शैक्षिक योग्यता, कौशल प्रकार और परिवार के विवरण आदि की डिटेल्स शामिल होती है ताकि उनकी रोजगार क्षमता को समझा जा सके और उन्हें सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ दिया जा सके। यह प्रवासी श्रमिकों, निर्माण श्रमिकों और प्लेटफॉर्म श्रमिकों आदि सहित असंगठित श्रमिकों का पहला राष्ट्रीय डेटाबेस है।

इसे भी पढ़ें: पोस्ट ऑफिस ग्राम सुरक्षा योजना क्या है? इसकी क्या क्या विशेषताएं हैं?

वास्तव में इसमें 30 करोड़ श्रमिकों को जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है। भारत सरकार द्वारा असंगठित क्षेत्र के असंगठित क्षेत्र के कामगारों की जानकारी एकत्र करना और सभी मजदूरों के डेटाबेस को एक स्थान पर एकत्रित कर इस पोर्टल के अंतर्गत आने वाले श्रमिक जैसे निर्माण श्रमिक, प्रवासी श्रमिक, प्लेटफार्म श्रमिक, रेहड़ी लगाने वाले, घरेलू कामगार, कृषि कामगार और अन्य संगठित कामगार जिन्हें किसी योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

ई-श्रम के उद्देश्य

इस योजना का उद्देश्य देश के कामगारों और मजदूरों के लिए है। श्रम और रोजगार मंत्रालय ने हाल ही में पूरे भारत में गैर-मान्यता प्राप्त क्षेत्र के श्रमिकों के बारे में पूरी जानकारी एकत्र की है। इसका मुख्य उद्देश्य प्रत्येक निर्माण श्रमिक, प्रवासी श्रमिक और प्लेटफॉर्म वर्कर, स्ट्रीट वेंडर, घरेलू कामगार, कृषि कार्यकर्ता आदि का एक केंद्रीकृत डेटाबेस बनाना है, जो उन्हें सामाजिक सुरक्षा सेवाओं को लागू करने और विभिन्न हितधारकों के साथ कल्याणकारी योजनाओं को वितरित करने के लिए उनकी जानकारी साझा करने में मदद करेगा।

अगला उद्देश्य प्रवासी और निर्माण श्रमिकों को सामाजिक सुरक्षा और कल्याणकारी लाभों की पोर्टेबिलिटी और भविष्य में किसी भी राष्ट्रीय संकट से निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों को एक व्यापक डेटाबेस प्रदान करना है।

देश के 38 करोड़ मजदूर असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे हैं जिनमें निर्माण श्रमिक, रेडी-ट्रैकर, छोटे विक्रेता, खेतिहर मजदूर, घरेलू कामगार, महिला, बीड़ी कार्यकर्ता, ट्रक चालक, मछुआरे, दूध विक्रेता, आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, मनरेगा कार्यकर्ता, स्वरोजगार और असंगठित क्षेत्र के कई और श्रमिक व्यापक रूप से शामिल हैं। यह राष्ट्रीय स्तर का पोर्टल (e-SHRAM पोर्टल) देश की अर्थव्यवस्था में बड़ी भूमिका निभाने वाले इन असंगठित श्रमिकों के कल्याण और उनके सुरक्षित भविष्य के लिए बनाया गया है।

ई-श्रम पोर्टल में कौन पंजीकरण कर सकता है?

निम्नलिखित शर्तों वाला कोई भी व्यक्ति पोर्टल पर पंजीकरण कर सकता है:

- एक असंगठित कार्यकर्ता या असंगठित श्रमिक कोई भी श्रमिक जो असंगठित क्षेत्र में एक स्व-नियोजित श्रमिक या मजदूरी कर्मचारी होता है। 

- आयु 16-59 वर्ष के बीच होनी चाहिए। 

- ईपीएफओ/ईएसआईसी या एनपीएस का सदस्य नहीं होना चाहिए।

- आयकर दाता नहीं होना चाहिए।

श्रम और रोजगार मंत्रालय ई-श्रम पोर्टल के लिए आवेदन करने वालों के लिए विशिष्ट पहचान संख्या (यूएएन) कार्ड प्रदान करेगा। उम्मीदवार जो ई-श्रम पोर्टल पंजीकरण के लिए आवेदन करना चाहते हैं, वे सीएससी सेवा केंद्र के लिए आवेदन कर सकते हैं। उम्मीदवार आधार कार्ड से जुड़े मोबाइल नंबर का उपयोग करके ई-श्रम पोर्टल पर स्व-पंजीकरण भी कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री मुद्रा ऋण योजना क्या है और क्या हैं इसके फायदे

पंजीकरण के लिए क्या आवश्यक है?

पोर्टल पर पंजीकरण करने के लिए ये तीन चीज़ें होनी चाहिए:

ए) आधार संख्या

बी) आधार से लिंक मोबाइल नंबर। यदि किसी कार्यकर्ता के पास आधार से जुड़ा मोबाइल नंबर नहीं है तो वह निकटतम सीएससी पर जा सकता है और बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण के माध्यम से पंजीकरण कर सकता है।

सी) आईएफएससी कोड के साथ बचत बैंक खाता संख्या

ई-श्रम पोर्टल में ऑनलाइन लॉग इन कैसे करें?

- इस ई श्रमिक पोर्टल में लॉग इन करने के लिए आपको सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा, जिसका लिंक register.eshram.gov.in है।

- उसके बाद होम पेज पर आपको 'सेल्फ रजिस्ट्रेशन' के विकल्प का चयन करना होगा।

- सेलेक्ट करने के बाद अगला पेज खुलेगा। उसमें आपको अपना मोबाइल नंबर डालना है जो आधार कार्ड से जुड़ा हुआ है।

- उसके बाद आपको कैप्चा कोड भरना होगा।

- फाइल करने के बाद आपको ईपीएफओ और ईएसआईसी के लिए हां/नहीं के विकल्प का चयन करना होगा।

- इसके बाद आपको 'Send OTP' पर क्लिक करना होगा।

- अब आपके पास एक ओटीपी आएगा। पूछे गए अनुभाग में ओटीपी दर्ज करें।

- अब आपको अपना आधार कार्ड नंबर दर्ज करने और नियम और शर्तें स्वीकार करने के बाद सबमिट बटन पर क्लिक करना होगा।

- आपके सामने आवेदन फॉर्म खुल जाएगा, आपको उसे भरना है।

- फिर सभी दस्तावेज भरने के बाद उसे  अपलोड करने होंगे।

- इसे बनाने के बाद सबमिट पर क्लिक करें और भविष्य के संदर्भ के लिए आवेदन पत्र की हार्ड कॉपी लें।

- इसके बाद आपका पंजीकरण ई श्रमिक पोर्टल पर पूरा हो जाएगा।

आवेदन शुल्क

इसके लिए आवेदन करने के लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। लेकिन अगर आप UAN कार्ड में किसी भी तरह का डाटा अपडेट करके आते हैं तो आपको ₹20 देने होंगे।

ई श्रम कार्ड के लिए आवश्यक दस्तावेज

1. आधार कार्ड

2. बैंक पासबुक

3. बिजली बिल/राशन कार्ड

4.सक्रिय मोबाइल नंबर

- जे. पी. शुक्ला