• कोरोना में भी दर्शकों को सिनेमाघर बुलाने का दम रखती है अक्षय कुमार की फिल्म बेल बॉटम

रेनू तिवारी Aug 20, 2021 17:05

जासूसी थ्रिलर फिल्म बेल बॉटम में अक्षय कुमार एक रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) अंडरकवर एजेंट की भूमिका निभाते हैं, जो कोड नाम 'बेल बॉटम' से जाता है। फिल्म की कहानी सच्ची घटना से प्रेरित एक प्लेन हाइजेक की घटना के इर्दगिर्द घूमती है।

कोरोना वायरस के कारण सिमेनाघरों में फिल्म देखना शायद दर्शक भूल ही गये हैं। महामारी की पकड़ जब कमजोर हुई तो एक बार फिर सिनेमाघरों को खोला गया लेकिन रिलीज होने वाली किसी भी फिल्म में इतना दम नहीं दिखा जो दर्शकों को एक बार फिर सिनेमाघरों  में वापस बुला सके। अब कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच सिनेमाघर पचास प्रतिशत क्षमता के साथ फिर खुले और ओटीटी का ऑप्शन छोड़कर अक्षय कुमार ने अपनी जासूसी थ्रिलर बेल बॉटम को थिएटर में रिलीज करने का फैसला किया। जासूसी थ्रिलर फिल्म बेल बॉटम में अक्षय कुमार एक रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) अंडरकवर एजेंट की भूमिका निभाते हैं, जो कोड नाम 'बेल बॉटम' से जाता है। फिल्म की कहानी सच्ची घटना से प्रेरित एक प्लेन हाइजेक की घटना के इर्दगिर्द घूमती है। 

जासूसी थ्रिलर बेल बॉटम की कहानी

भारत में 80 के दशक के दौरान एक ऐसा दौर आया था, लगातार एक के बाद एक प्लेन हाईजैक की घटनाएं हो रही थी। हवाई मार्ग से जा रहे यात्रियों का आकंतवादी अपना शिकार बनाते थे और उनके प्लेन को हाईजैक करके सरकार से मोटी रकम और अपने साथियों की रिहाई मांगते थे। ऐसे में सरकार को काफी बड़ा नुकसान होता था और देश की सुरक्षा भी खतरे में होती थी। बेल बॉटम की कहानी भी इसी प्लेन हाईजैक की घटना पर बनाई गयी है।कहानी में वह दौर दिखाया गया है  जब भारत की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ( फिल्म में लारा दत्ता ने प्रधानमंत्री की भूमिका निभाई) थी। तब भारत के कई प्लेनों को आतंकियों ने हाईजैक किया था। एक दिन एक प्लेन के सफर पर अंशुल मल्होत्रा (अक्षय कुमार) और उनकी मां (डॉली अहलूवालिया) भी निकलते हैं। रास्ते में उनका प्लेन हाईजैक हो जाता है और इस घटना के दौरान अंशुल मल्होत्रा की मां की मौत हो जाती है। मां की मौत का दर्द अंशुल मल्होत्रा को रॉ का ऐजेन्ट बना देता है। अंशुल मल्होत्रा को बेट बॉटम नाम के कोड से जाना जाता है। अंशुल मल्होत्रा की काबलियत से ही एक प्लेन हाईजैक की घटना को बिना किसी नेगोशियेशन के सही कर दिया जाता है और सभी यात्रियों को भी सुरक्षित बचा लिया जाता है।

इसे भी पढ़ें: रणवीर सिंह और आलिया भट्ट ने शुरू करण जौहर की इस फिल्म की शूटिंग

 कैसी है फिल्म

बेल बॉटम पूरी कहानी बहुत ही शानदार डायरेक्शन के साथ पर्दे पर दर्शकों के लिए परोसी गयी है। कहानी के ट्वीस्ट और टर्न दर्शकों को फिल्म से बांधे रखने में कामयाब होते हैं। अक्षय कुमार की कई अन्य फिल्मों की तरह, जो वास्तविक घटनाओं से प्रेरित हैं, यह रंजीत तिवारी निर्देशित दो घटनाओं पर आधारित है जो भारत के प्रधान मंत्री के रूप में इंदिरा गांधी के समय में 70 के दशक के अंत और 80 के दशक की शुरुआत में हुई थीं। यह सराहनीय है कि फिल्म की शूटिंग भारत और स्कॉटलैंड के विभिन्न स्थानों पर महामारी के दौरान की गई थी। फिल्म 210 बंधकों को छुड़ाने और चार अपहर्ताओं को बेअसर करने के लिए एक साहसी गुप्त अभियान की उनकी योजनाओं के इर्द-गिर्द केंद्रित है। तथ्य यह है कि रॉ ऑपरेशन व्यक्तिगत त्रासदी से जुड़ा है, इसे और अधिक प्रभावशाली बनाता है। असीम अरोरा और परवेज शेख द्वारा लिखित, फिल्म आकर्षक है और 123 मिनट तक आपका ध्यान खींचने में सफल रहती है। 

इसे भी पढ़ें: रणदीप हुड्डा पर लेखक ने लगाया स्क्रिप्ट हड़पने का आरोप, 10 करोड़ का भेजा कानूनी नोटिस 

 कलाकार

फिल्म में अक्षय कुमार फुल फॉर्म में हैं और काफी मजबूती से अपना किरदार निभाते हुए दिखाई दे रहे हैं। वह अपनी स्टार पावर का भरपूर इस्तेमाल करते हैं। इंदिरा गांधी को पर्दे पर चित्रित करना कोई मामूली उपलब्धि नहीं है और लारा दत्ता इस भूमिका में आत्मविश्वास से भरपूर और आश्वस्त लग रही हैं। कुमार की माँ का किरदार डॉली अहलूवालिया ने निभाया है और वे कुछ मार्मिक और मज़ेदार दृश्य एक साथ साझा करती हैं। बेल बॉटम की पत्नी के रूप में वाणी कपूर नजर आ रही हैं।  फिल्म में अक्षय राष्ट्रीय स्तर के शतरंज खिलाड़ी हैं। उनकी याददाश्त तेज है और वह हिंदी, अंग्रेजी, फ्रेंच और जर्मन में धाराप्रवाह है। कुमार की पत्नी के रूप में वाणी कपूर पर्दे पर बहुत खूबसूरत हैं और सीमित स्क्रीन समय के साथ भी, वह अपने किरदार से न्याय करती नजर आती हैं। फिल्म में आदिल हुसैन, हुमा कुरैशी और लारा दत्ता भी प्रमुख भूमिकाओं में हैं।

फिल्म : बेल बॉटम

कलाकार: अक्षय कुमार,वाणी कपूर,हुमा कुरैशी,लारा दत्ता,आदिल हुसैन

डायरेक्टर : रंजीत तिवारी

श्रेणी:  Action, Thriller

अवधि: 2 Hrs 10 Min 

रेटिंग : 3.5/5