वाइन का सेवन करने वालों के लिए अच्छी खबर, कोरोना से संक्रमित होने का खतरा होता है कम

वाइन का सेवन करने वालों के लिए अच्छी खबर, कोरोना से संक्रमित होने का खतरा होता है कम

रेड वाइन के अलावा, व्हाइट वाइन और शैंपेन जैसी ड्रिंक्स भी कोरोना के संक्रमण से बचाती है। रिसर्च के मुताबिक, हफ्ते में जो लोग 4 बार वाइन या शैंपेन पीते हैं, उन्हें कोरोना होने का खतरा केवल 8 फीसदी ही होता है।

जब से कोरोना महामारी आई है तभी से देश और दुनिया के वैज्ञानिकों ने लोगों को खाने-पीने से संबधित हर चीजों को लेकर सलाह दी है। भारत में भी काढ़े पीने के लिए लोगों को सलाह दी गई। फ्रंटीयर्स इन न्यूट्रीशन जर्नल में प्रकाशित हुई एक रिसर्च के मुताबिक, जो लोग हफ्ते में 5 गिलास या उससे ज्यादा रेड वाइन का सेवन करते है उन्हें कोरोना वायरस होने का खतरा 17 फीसदी कम हो जाता है।ब्रिटिश वेबसाइट मिरर के अनुसार,  इस रिसर्च को चीन के शेनझेन कांगनिंग अस्पताल में ब्रिटिश नागरिकों के डेटा का एनालिसिस करके तैयार किया गया है।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तानी तीर्थयात्री आजादी के बाद पहली बार विमान से पहुंचेंगे भारत

इसमें वैज्ञानिकों ने ब्रिटेन के लोगों को शराब पीने की आदत और कोरोना हिस्ट्री का रिसर्च किया है। रिसर्चर के मुताबिक, रेड वाइन में पॉलीफेनोल नाम का एक कंपाउंड पाया जाता है। यह कंपाउंड फ्लू और सांस संबंधी बीमरियों को दूर रखने में मदद करता है। यहीं कारण है कि, इस वाइन को पीने से कोरोना होने का खतरा भी कम हो जाता है।

इसे भी पढ़ें: अपनी हरकतों से नहीं बाज आ रहा उत्तर कोरिया, दो क्रूज मिसाइल का किया परीक्षण

रेड वाइन के अलावा, व्हाइट वाइन और शैंपेन जैसी ड्रिंक्स भी कोरोना के संक्रमण से बचाती है। रिसर्च के मुताबिक, हफ्ते में जो लोग 4 बार वाइन या शैंपेन पीते हैं, उन्हें कोरोना होने का खतरा केवल 8 फीसदी ही होता है। अगर आप भी इनका सेवन हफ्ते में 5 गिलास या उससे ज्यादा करते है तो सावधान होने की जरूरत है क्योंकि डबल शराब पीते है, उन्हें वायरस की चपेट में आने का रिस्क सबसे ज्यादा हो जाता है। यहीं वजह है कि, वैज्ञानिक ज्यादा शराब का सेवन करने की सलाह नहीं देते हैं। कोरोना से बचना है तो वैक्सीन लगवाना भी काफी जरूरी है। बता दें कि, देश में लगातार 5वें दिन 3 लाख से ज्यादा नए कोरोना केस आए हैं।






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...