भारतीय मूल के इम्तियाज अहमद फजल दक्षिण अफ्रीका के खुफिया महानिरीक्षक चुने गए

Imtiaz Ahmed Fazel
प्रतिरूप फोटो
Head Topics.com
भारतीय मूल के खुफिया सेवा अधिकारी इम्तियाज अहमद फजल को दक्षिण अफ्रीका की संसद ने देश के खुफिया महानिरीक्षक (आईजीआई) के पद पर नियुक्त किया है। आईजीआई को दक्षिण अफ्रीका की तीन मुख्य खुफिया सेवाओं-राज्य सुरक्षा एजेंसी, सैन्य खुफिया एजेंसी और दक्षिण अफ्रीकी पुलिस सेवाओं के अपराध खुफिया विभाग में दुर्व्यवहार के आरोपों की जांच करने की विधायी शक्ति हासिल है।

भारतीय मूल के खुफिया सेवा अधिकारी इम्तियाज अहमद फजल को दक्षिण अफ्रीका की संसद ने देश के खुफिया महानिरीक्षक (आईजीआई) के पद पर नियुक्त किया है। आईजीआई को दक्षिण अफ्रीका की तीन मुख्य खुफिया सेवाओं-राज्य सुरक्षा एजेंसी, सैन्य खुफिया एजेंसी और दक्षिण अफ्रीकी पुलिस सेवाओं के अपराध खुफिया विभाग में दुर्व्यवहार के आरोपों की जांच करने की विधायी शक्ति हासिल है। नेशनल असेंबली ने खुफिया सेवा निगरानी अधिनियम-1994 की धारा 7(1) के अनुसार फजल के नामांकन को अनुमोदित किया।

फजल ने 12 अन्य दावेदारों को पीछे छोड़ते हुए आईजीआई पद के लिए अनुमोदन हासिल किया। इस पद के लिए कुल 25 आवेदन आए थे, जिनमें से 12 को साक्षात्कार के लिए चुना गया था। हालांकि, राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा द्वारा फजल की नियुक्ति की आधिकारिक पुष्टि किया जाना अभी बाकी है। नेशनल असेंबली की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, “अधिनियम के तहत संयुक्त स्थायी समिति (जेएससीआई) के लिए, एक दावेदार के नाम की सिफारिश पर नेशनल असेंबली के कम से कम दो-तिहाई सदस्यों का अनुमोदन अनिवार्य है।”

बयान में कहा गया है, “एक बार जब सदन जेएससीआई की सिफारिश को मंजूरी दे देती है तो संबंधित नाम दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति को भेजा जाता है, ताकि वह नामित व्यक्ति को आईजीआई के रूप में नियुक्त करने पर विचार कर सकें।” दक्षिण अफ्रीका का आईजीआई पद 15 मार्च 2022 को सेतलोमोमारु आइजैक दिन्त्वे के सेवानिवृत्त होने के बाद रिक्त हो गया था।

फजल के पास खुफिया सेवाओं में कार्य करने का लंबा अनुभव है। उन्होंने 1997 से 2002 के बीच तत्कालीन खुफिया सेवा मंत्रालय में एक सलाहकार के रूप में सेवा दी थी। इसके बाद फजल ने आईजीआई के मुख्य परिचालन अधिकारी का पद संभाला था। उनके पास सुरक्षा विषय में परास्नातक की डिग्री है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़