रूस-यूक्रेन हमले के बीच भारतीयों की वतन वापसी, UNGA ने बुलाई आपात बैठक

रूस-यूक्रेन हमले के बीच भारतीयों की वतन वापसी, UNGA ने बुलाई आपात बैठक
प्रतिरूप फोटो

यूक्रेन पर रूसी सैनिकों के हमले का बेलारूस समर्थन कर रहा है। इसके साथ ही अब बेलारूस ने फैसला किया है कि वो रूस की मदद के लिए अपने सैनिक उतारेगा। इसकी जानकारी अमेरिकी अधिकारियों के हवाल से सामने आई है।

कीव। रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध जारी है। ऐसे में एक कहावत याद आ रही है- लम्हो ने खता की है, सदियों ने सजा पाई है। आप सभी ने इसे कई बार सुना होगा और इतिहात में हुए कई युद्धों के परिणाम भी देखे होंगे। युद्ध भले ही दो मुल्कों के बीच में हो रहा है लेकिन मरता तो आम आदमी ही है। चाहे वो किसी भी मुल्क का हो। इसी बीच एक खुशखबरी है। ऑपरेशन गंगा के तहत भारतीयों की वतन वापसी का सिलसिला जारी है। 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन संकट के बीच PM मोदी ने की उच्च स्तरीय बैठक, भारतीयों को निकालने के लिए सरकार भेजेगी 4 मंत्री 

भारत कभी भी अपनो को और गैरों द्वारा की गई मदद को कभी नहीं भूलता है। सभी को स्वर्गीय पूर्व विदेश मंत्री का एक बयान याद होगा। उन्होंने ट्विटर पर लिखा था- Even if you are stuck on the mars, Indian Embassy there will help you. जिसका हिंदी में मतलब है कि भले ही आप मंगल ग्रह पर फंसे हों, वहां भारतीय दूतावास आपकी मदद करेगा और इसका ताजा उदाहरण आप सभी के सामने है। मातृभूमि में वापसी करने वाला हर एक भारतीय भारत सरकार और भारत सरकार के विदेश में बैठे हर एक अफसर की सराहना कर रहा है। जिसकी मदद से मुश्किल वक्त में उन्हें अकेला महसूस नहीं हुआ, हां जरूर छात्र शुरू में थोड़ा बहुत डर गए थे लेकिन उनकी हिम्मत ने सरकार को हिम्मत दी और फिर उनकी वतन वापसी हुई।

यूक्रेन में फंसे 249 छात्रों और अन्य भारतीय नागरिकों को लेकर एयर इंडिया की 5वीं फ्लाइट दिल्ली पहुंची है। रोमानिया के बुखारेस्ट से आई एयर इंडिया की फ्लाइट नंबर AI 1942 ने सोमवार तड़के 6 बजकर 30 मिनट पर दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल (आईजीआई) एयरपोर्ट पर उतरा। आपको बता दें कि ऑपरेशन गंगा के तहत अबतक 1396 भारतीयों की वतन वापसी हुई है।

रूस की मदद के लिए आगे आया बेलारूस

यूक्रेन पर रूसी सैनिकों के हमले का बेलारूस समर्थन कर रहा है। इसके साथ ही अब बेलारूस ने फैसला किया है कि वो रूस की मदद के लिए अपने सैनिक उतारेगा। इसकी जानकारी अमेरिकी अधिकारियों के हवाल से सामने आई है। अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि रूस के समर्थन में बेलारूस भी अपने सैनिकों को यूक्रेन में उतारने जा रहा है।

352 नागरिकों की हुई मौत

यूक्रेन के गृह मंत्रालय ने बताया कि रूसी हमले में अभी तक 14 बच्चों समेत यूक्रेन के 352 नागरिकों की मौत हो चुकी है और 116 बच्चों समेत 1,684 लोग जख्मी हुए हैं। हालांकि गृह मंत्रालय ने इसकी कोई जानकारी नहीं दी कि यूक्रेनी सेना के कितने जवान हताहत हुए हैं। वहीं रूस ने दावा किया कि उसकी सेना सिर्फ यूक्रेन के सैन्य ठिकानों को निशाना बना रही है और यूक्रेन के आम नागरिकों को कोई खतरा नहीं है। रूस के रक्षा मंत्रालय ने रविवार को यह स्वीकार किया कि रूसी सैनिक हताहत हुए हैं लेकिन उनकी संख्या नहीं बताई गई। 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन से भारतीयों की वापसी के लिए विदेश मंत्रालय ने शुरू किया विशेष ट्विटर हैंडल, हेल्पलाइन नंबर भी किए जारी 

बुलाई गई आपातकालीन बैठक

यूक्रेन-रूस युद्ध के बीच में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने आपातकालीन सत्र बुलाया है। संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र की अध्यक्षता अब्दुल्ला शाहिद करेंगे। इतिहास में यह 11वां मौका है जब संयुक्त राष्ट्र महासभा की विशेष आपात बैठक बुलाई गई है। वहीं, रूस ने राजधानी कीव पर हमले तेज कर दिए हैं। सुबह-सुबह कीव और खारकीव में दो धमाके हुए हैं।