मनमोहन जैसे नहीं हैं मोदी, पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने माना- भारत बदल गया है

Modi
Creative Common
अभिनय आकाश । Sep 29, 2022 3:43PM
अमेरिका के भारत के साथ रिश्‍ते सुधारने की सलाह के बाद बिलावल ने एक कार्यक्रम में 2010 के यूपीए सरकार का जिक्र करते हुए बिलावल ने कहा कि वह पीएम मोदी के तहत मौजूदा सरकार के विपरीत पाकिस्तान के साथ जुड़ने को तैयार है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो-जरदारी ने कहा कि पाकिस्तान और अमेरिका के संबंध अब भारत या अफगानिस्तान से नहीं जुड़े हैं। भुट्टो इस समय दोनों देशों के बीच व्यापार और आर्थिक सहयोग बढ़ाने पर चर्चा के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में हैं। बिलावल ने वाशिंगटन डीसी स्थित थिंक-टैंक, वुडरो विल्सन सेंटर में कहा न केवल मैं वर्तमान में हैरान हूं, बल्कि पाकिस्तान के प्रति अमेरिका की नई विदेश नीति के दृष्टिकोण से बिल्कुल प्रभावित हूं। हमारी (पाक-अमेरिका) बातचीत में यह भावना भी बढ़ी है। भुट्टो ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला भी करते हुए कहाकि भारत 2010 से बहुत बदल गया है।

इसे भी पढ़ें: IAS अधिकारी के कंडोम वाले जवाब पर मचा बवाल, हटाने की मांग पर नीतीश ने कही ये बात

पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी ने माना है कि पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत बदल गया है।  अमेरिका के भारत के साथ रिश्‍ते सुधारने की सलाह के बाद बिलावल ने एक कार्यक्रम में 2010 के यूपीए सरकार का जिक्र करते हुए बिलावल ने कहा कि वह पीएम मोदी के तहत मौजूदा सरकार के विपरीत पाकिस्तान के साथ जुड़ने को तैयार है। उन्होंने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच तर्कसंगत संबंध अब मौजूद नहीं हैं। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि जब तक इस्लामाबाद आतंक पर कार्रवाई नहीं करता, तब तक भारत के पड़ोसी के साथ कोई बातचीत नहीं हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: इमरान खान का ऑडियो लीक, अपने प्रधान सचिव के साथ विदेशी साजिश पर कर रहे हैं चर्चा

भुट्टो ने कहा कि मोदी अपने पूर्ववर्तियों- अटल बिहारी वाजपेयी और मनमोहन सिंह की तरह नहीं हैं। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री बनने तक अमेरिका ने गुजरात दंगों की वजह से भारतीय नेता को वीजा तक नहीं दिया था जिससे वह अमेरिका नहीं आ पा रहे थे। आयोजन के दौरान, उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान के एफ-16 विमानों के बेड़े को अपग्रेड करने के लिए 45 करोड़ डॉलर देने के संयुक्त राज्य अमेरिका के फैसले के बाद भारत की प्रतिक्रिया ने उन्हें आश्चर्यचकित नहीं किया है।

अन्य न्यूज़