अमेरिका के जेल में 86 साल की सजा काट रही पाकिस्तान की साइंटिस्ट Dr Aafia Siddiqui, लेडी अलकायदा के नाम से है मशहूर

अमेरिका के जेल में 86 साल की सजा काट रही पाकिस्तान की साइंटिस्ट Dr Aafia Siddiqui, लेडी अलकायदा के नाम से है मशहूर

आफिया को सजा सुनाई जा रही थी तब उसने कोर्ट में अपने बयान में विश्व की शांति का संदेश दिया और सजा सुनाने वाले जज को माफ भी किया। आफिया के वकीलों ने जब कहा कि वह नरमी की पूरी हकदार है क्योंकि वह मानसिक रूप से बीमार हैं तो वह वकीलों पर ही भड़क गई थी।

अमेरिका के टेक्सास शहर में एक हमलावर ने चार लोगों को बंधंक बना लिया और पाकिस्तान की साइंटिस्ट डॉ. आफिया सिद्दकी की रिहाई की मांग की। पुलिस ने शनिवार रात को बताया कि, हमलावर को मार गिराया है और सभी होस्टेज सुरक्षित है। बता दें कि, इस घटना के बाद से आफिया दोबारा से सुर्खियों में आ गई है। आफिया सिद्दीकी को लेडी अल-कायदा के नाम से भी जाना जाता है।

इसे भी पढ़ें: साल 2016 के बाद पहली बार तीन ईरानी राजनयिक पहुंचे सऊदी अरब

वह एक पाकिस्तानी नागरिक है जिसे 2010 में न्यूयॉर्क सिटी फेडरल कोर्ट ने अमेरिकी सैन्य कर्मियों को मारने के प्रयास के लिए दोषी ठहराया था। वह वर्तमान में टेक्सास के फोर्ट वर्थ में फेडरल मेडिकल सेंटर, कार्सवेल में 86 साल की सजा काट रही है।सिद्दीकी ने अफगानिस्तान में अमेरिकी एजेंटों और सैन्य अधिकारियों को मारने की कोशिश की थी। आफिया का नाम अलकायदा से भी जोड़ा गया था। 

कौन हैं आफिया सिद्दीकी?

पाकिस्तान की रहने वाली आफिया एक  न्यूरो वैज्ञानिक हैं, उन्होनें अपनी पढ़ाई अमेरिका में ही की और प्रतिष्ठित संस्थानों ब्रैंडिस यूनिवर्सिटी और मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से डिग्री हासिल किया। जब अमेरिका में 9/11 हमला हुआ उसके कुछ समय बाद आफिया अमेरिका के कानून प्रवर्तन की नजर में आ गई और मई 2004 को अमेरिका की एफबीआई और न्याय विभाग ने एक प्रेस कॉन्फ्रेस जारी कर आफिया को अलकायदा का संचालक और सूत्रधार घोषित किया था। साल 2008 में आफिया को अफगानिस्तान में अधिकारियों ने हिरासत में ले लिया। अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक, आफिया के पास हाथ से लिखे कुछ नोट्स मिले जिसमें डर्टी बम बनाने की बात लिखी हुई थी। अफगानिस्तान में कस्टडी में आफिया को रखा गया और पूछताछ भी की गई। इस पूछताछ के दौरान आफिया ने एक अमेरिका सेना अधिकारी से एम-4 राइफल छीन कर टीम पर गोलियां चला दीं थी। साल 2010 में आफिया को अमेरिका नागरिकों को मारने के आरोप में दोषी ठहराया गया और अपनी सजा के दौरान आफिया ने कोर्ट में काफी चौंका देने वाले बयान भी दिए।

सजा के दौरान किया विश्व शांति की बात

जब आफिया को सजा सुनाई जा रही थी तब उसने कोर्ट में अपने बयान में विश्व की शांति का संदेश दिया और सजा सुनाने वाले जज को माफ भी किया। आफिया के वकीलों ने जब कहा कि वह नरमी की पूरी हकदार है क्योंकि वह मानसिक रूप से बीमार हैं तो वह वकीलों पर ही भड़क गई और कहा कि, मैं पागल नहीं हूं। मैं आपकी बातों से सहमत नहीं हूं। 

पाकिस्तान ने क्या कहा

आफिया की सजा पर पाकिस्तान ने कड़ी आलोचना की थी और पूरे शहरों में जोरदार प्रदर्शन भी हुए। उस समय पाकिस्तान के पीएम  यूसुफ रजा गिलानी थे और उन्होने सजा की कड़ी निंदा करते हुए आफिया को देश की बेटी बताया था। पाकिस्तान के कई नेताओं ने आफिया की रिहाई पर बड़ कदम भी उठाए। बता दें कि, इस समय आफिया को  टेक्सास के फोर्ट वर्थ जेल में रखा गया है।