PoK में बढ़ता जा रहा है ड्रैगन का दखल, LoC के पास चीनी इंजीनियर को मॉडल गांव बसाने के काम में लगाए जाने की आशंका!

PoK में बढ़ता जा रहा है ड्रैगन का दखल, LoC के पास चीनी इंजीनियर को मॉडल गांव बसाने के काम में लगाए जाने की आशंका!

पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले कश्मीर यानी पीओके में चीनी कर्मचारियों की संख्या में तेजी से वृद्धि देखने को मिल रही है। खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक नॉर्थ कश्मीर के दूसरी भारतीय इलाके में बहने वाली किशनगंगा नदी के पास पीओके में चीनी इंजीनियर और वर्कर की संख्या में बढ़ोतरी हुई है।

चीन और पाकिस्तान का याराना इन दिनों चाइना पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर यानी सीपैक के साथ और परवान चढ़ता नजर आ रहा है। चीन जहां अपने बेल्ट एंड रोड इनिसिएटिव प्रोजेक्ट के लिए गिलगिट बाल्टिस्तान में पानी की तरह पैसा बहाए जा रहा है वहीं इसका फायदा उठाकर पाकिस्तान अपनी सैन्य जरूरतों को पूरा करने में लगा है। लेकिन अब पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले कश्मीर यानी पीओके में चीनी कर्मचारियों की संख्या में तेजी से वृद्धि देखने को मिल रही है। खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक नॉर्थ कश्मीर के दूसरी भारतीय इलाके में बहने वाली किशनगंगा नदी के पास पीओके में चीनी इंजीनियर और वर्कर की संख्या में बढ़ोतरी हुई है।

इसे भी पढ़ें: चीन ने ऑस्ट्रेलियाई निगरानी विमान पर चीनी युद्धपोत के लेजर दागे जाने से किया इनकार

 गांव बसाने के काम में जुटे चीनी वर्कर

खुफिया एजेंसियों को मिली रिपोर्ट में इस बात का नि को अंदेशा जताया जा रहा है कि ये नियंत्रण और रेखा के पास पीओके की तरफ गांव बसाने के काम में जुटे हो सकते हैं। पाकिस्तान से मामलों हमेशा से एलओसी के पास बसे गांवों को आतंकियों की घुसपैठ के लिए लॉन्चिंग तर मामले पैड की तरह इस्तेमाल करता रहा है। पाकिस्तानी सेना ने गांवों के बीचों-बीच ही अपनी पोस्ट भी बनाई हुई हैं।पाकिस्तानी सेना गांवों के आम लोगों को कवच की तरह इस्तेमाल करती है।  

इसे भी पढ़ें: चीन के युद्धपोत ने ऑस्ट्रेलिया के गश्ती विमान पर लेजर दागी: रक्षा विभाग

 भारत ने कहा- पीओके हमारा है बंद करो CPEC

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान हाल ही में चीन के दौरे पर गए थे। जहां उन्होंने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के सामने कश्मीर का रोना रोया। उनकी इस यात्रा के बाद चीन और पाकिस्तान के एक साझा बयान भी जारी किया। जिसपर भारत ने तीखी प्रतिक्रिया कुछ इस अंदाज में दी जिसे ये दोनों देश इतनी आसानी से भूल नहीं पाएंगे। चीन ने अपने बयान में चाइना पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर का जिक्र किया था। चाइना पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर पीओके से होकर गुजरता है। पीओके भारत का हिस्सा है जिसपर पाकिस्तान ने गैर कानूनी तरीके से कब्जा कर रखा है। भारत की तरफ से कहा गया कि चीन और पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज आए और अवैध कब्जे वाले इलाके में अपनी गतिविधियां रोके। इसके साथ ही सीपैक परियोजना को लेकर भी भारतीय विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया था कि ये भारतीय क्षेत्र में हो रही हैं, इसे रोका जाना चाहिए। 






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...