Saudi Arabia on Pakistan Crisis: सऊदी अरब ने भी पाकिस्तान के साथ किया बड़ा खेल, बिना शर्त नहीं देगा आर्थिक सहायता

Saudi Arabia On Pakistan
Creative Common
अभिनय आकाश । Jan 19, 2023 1:26PM
सऊदी अरब के वित्त मंत्री ने कहा कि हम अपने लोगों पर कर लगा रहे हैं, हम उम्मीद कर रहे हैं कि दूसरे भी ऐसा ही करें। हम मदद करना चाहते हैं लेकिन हम चाहते हैं कि आप भी अपनी भूमिका निभाएं।

पाकिस्तान के खस्ता हलाता से तो तो पूरी दुनिया वाकिफ है। आटे से लेकर अन्य संसाधनों का मोहताज पाकिस्तान भीख का कटोरा लेकर कभी वर्ल्ड बैंक तो कभी अरब देशों के पास खैरात की उम्मीद लिए मारा-मारा फिर रहा है। लेकिन सऊदी अरब ने अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाद शरीफ और सेना प्रमुख असीम मुनीर को तगड़ा झटका दे दिया है। सऊदी अरब ने संकेत दिया है कि वो अपने सहयोगी देशों को अब भविष्य में बिना शर्त आर्थिक सहायता नहीं प्रदार करेगा। सऊदी अरब की तरफ से ये कदम अपनी अर्थव्यवस्था को मजबूत करने की दिशा में काम करने की वजह से उठाया गया है। याद हो कि इससे पहले भी कई मौकों पर पाकिस्तान की सऊदी ने अरबों डॉलर से मदद की थी तो उसके विदेशी मुद्रा भंडार में कई अरब डॉलर जमा करवाए थे। 

इसे भी पढ़ें: अब्दुल्ला-मुफ्ती कब समझेंगे कि पाकिस्तान का वार्ता का प्रस्ताव हमेशा छलावा ही रहा है

बिना शर्त आर्थिक सहायता नहीं 

सऊदी अरब के वित्त मंत्री ने कहा कि पहले सीधे अनुदान देने और बिना शर्त जमा से हटकर सऊदी अपने सहयोगियों को सहायता प्रदान करने के तरीके को बदल रहा है। दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में मोहम्मद अल-जादान ने कहा कि किंगडम, दुनिया का शीर्ष तेल निर्यातक और एक अरब बिजलीघर, आर्थिक सुधारों को लागू करने के लिए क्षेत्र के देशों को प्रोत्साहित कर रहा हैं। मंत्री ने कहा कि हम बिना किसी शर्त के सीधे अनुदान और जमा देते थे और हम इसे बदल रहे हैं। हम वास्तव में बहुपक्षीय संस्थानों के साथ काम कर रहे हैं कि हमें सुधार देखने की जरूरत है। 

इसे भी पढ़ें: भारत से कैसे अच्छे हो रिश्ते? UAE प्रेसिडेंट से शहबाज शरीफ ने की अपील, किसी तरह चर्चा के लिए मनाएं

अर्थव्यवस्था को मजबूत करने की योजना पर काम कर रहा सऊदी अरब 

सऊदी अरब के वित्त मंत्री ने कहा कि हम अपने लोगों पर कर लगा रहे हैं, हम उम्मीद कर रहे हैं कि दूसरे भी ऐसा ही करें। हम मदद करना चाहते हैं लेकिन हम चाहते हैं कि आप भी अपनी भूमिका निभाएं। सऊदी अरब और अन्य खाड़ी अरब राज्य जैसे संयुक्त अरब अमीरात और कतर प्रत्यक्ष वित्तीय सहायता देने के बजाय तेजी से निवेश की ओर बढ़ रहे हैं। इस महीने की शुरुआत में सऊदी राज्य मीडिया ने बताया कि राज्य अगस्त में घोषित 1 अरब डॉलर से नकद-संकटग्रस्त पाकिस्तान में अपने निवेश को 10 अरब डॉलर तक बढ़ा सकता है, साथ ही साथ पाकिस्तान के केंद्रीय बैंक में जमा राशि को 5 अरब डॉलर तक बढ़ा सकता है।

जून में सऊदी अरब ने मिस्र के साथ $7.7 बिलियन के सौदों पर हस्ताक्षर किए, जिसमें 1.5 बिलियन डॉलर का बिजली संयंत्र बनाना शामिल था, और कहा कि यह 30 बिलियन डॉलर के निवेश का नेतृत्व करने का इरादा रखता है, जिससे एक लंबे समय से चलने वाले सहयोगी को कमजोर मुद्रा और विदेशी मुद्रा की कमी का सामना करना पड़ रहा है। साम्राज्य ने मिस्र, जॉर्डन, बहरीन, सूडान, इराक और ओमान में कंपनियों की स्थापना की ताकि वहां निवेश में 24 अरब डॉलर तक की मांग की जा सके। जादान ने कहा कि रियाद ने शुरुआत में ही वैश्विक मुद्रास्फीति को आते देखा था और उसके अनुसार कार्य किया, जिससे राज्य में मुद्रास्फीति को लगभग 2.6% के औसत पर रखने में मदद मिली।

अन्य न्यूज़