सुरक्षा कानून को लेकर हांगकांग की नेता ने कहा- ये स्वतंत्रता के लिए खतरा नहीं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 26, 2020   16:25
सुरक्षा कानून को लेकर हांगकांग की नेता ने कहा- ये स्वतंत्रता के लिए खतरा नहीं

चीन के इस नए कानून को हांगकांग में पिछले साल लोकतंत्र की मांग को लेकर चले विरोध प्रदर्शनों के बाद, उस पर ज्यादा नियंत्रण स्थापित करने की सरकार की मंशा के तौर पर देखा जा रहा है।चीन ने हांगकांग के लिए नया प्रतिनिधि नियुक्त किया है,जो चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा स्थापित कड़े नियमों का पालन कर रहा है।

हांगकांग। हांगकांग की शीर्ष नेता ने मंगलवार को कहा कि चीन द्वारा प्रस्तावित राष्ट्रीय सुरक्षा कानून इस अर्द्ध-स्वायत्त क्षेत्र के नागरिक अधिकारों के लिए कोई खतरा पैदा नहीं करता। हांगकांग की मुख्य कार्यकारी कैरी लैम ने संवाददाताओं से कहा चीन की औपचारिक नेशनल पीपुल्स कांग्रेस जिस कदम पर विचार कर रही है उससे ‘‘हमें चिंतित होने की जरूरत नहीं’’ है। उन्होंने कहा,‘‘हांगकांग ने यह साबित किया है कि हम उन मूल्यों को बरकरार और संरक्षित रखते है।’’ उन्होंने कहा,‘‘ हांगकांग के लोगों की बड़ी आबादी के ज्यादा फायदे के लिए विधेयक के इस भाग की जरूरत है।’’ लैम ने कहा कि हांगकांग के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे में एक जून से ट्रांजिट सेवा शुरू हो जाएगी लेकिन कोरोना वायरस को रोकने के लिए उठाए गए कदमों के तहत विदेश से किसी को यहां आने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

इसे भी पढ़ें: चीन में कोरोना वायरस के 36 नए मामले, 29 में नहीं दिखे कोई भी लक्षण

चीन के इस नए कानून को हांगकांग में पिछले साल लोकतंत्र की मांग को लेकर चले विरोध प्रदर्शनों के बाद, उस पर ज्यादा नियंत्रण स्थापित करने की सरकार की मंशा के तौर पर देखा जा रहा है। चीन ने हांगकांग के लिए नया प्रतिनिधि नियुक्त किया है, जो चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा स्थापित कड़े नियमों का पालन कर रहा है। अमेरिका ने इस प्रस्तावित कानून की तीखी आलोचना की है और हांगकांग के साथ तरजीही व्यापार दर्जे को भी समाप्त करने की धमकी दी है। चौतरफा आलोचनाओं ने बीच लैम ने कहा कि हांगकांग पर कानून लागू करने के संबंध में ‘‘कुछ विदेशी नेताओं’’ ने ‘‘सच्चाई से परे विचार’’ जाहिर किए हैं। उन्होंने आतंकवाद और चरमपंथ पर चिंता व्यक्त करते हुए अपने उन दावों को दोहराया कि यह कानून केवल ‘‘एक अल्पसंख्यक समूह’’पर केन्द्रित होगा। ऐसी आशंका व्यक्त की जा रही है कि यह हांगकांग के कानून को खत्म कर देगा तथा चीनी एजेंटों को मनमाने ढंग से उन लोगों को गिरफ्तार करने का अधिकार देगा जो लोकतंत्र समर्थक हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।