हाल की छह खोज जिन्होंने मानव उत्पत्ति के बारे में हमारे सोचने के तरीके को बदल दिया

Human Evolution
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
मानव विकास के वैज्ञानिक अध्ययन ने ऐतिहासिक रूप से हमें चीजों के लिए एक सुगम व्यवस्था प्रदान की है। इसने मनुष्यों को हमारे पूर्वजों की तुलना में अधिक चतुर, अधिक बुद्धिमान और अधिक देखभाल करने वाले के रूप में चित्रित किया है।

मानव विकास के वैज्ञानिक अध्ययन ने ऐतिहासिक रूप से हमें चीजों के लिए एक सुगम व्यवस्था प्रदान की है। इसने मनुष्यों को हमारे पूर्वजों की तुलना में अधिक चतुर, अधिक बुद्धिमान और अधिक देखभाल करने वाले के रूप में चित्रित किया है। पिछले पांच वर्षों में खोजों ने असंतुलित दृष्टिकोण को बरकरार रखा है। मेरी हाल की किताब ‘हिडन डेप्थ्स: द ऑरिजिन्स ऑफ ह्यूमन कनेक्शन’ में, मैंने तर्क दिया है कि यह मायने रखता है कि हम आज खुद को कैसे देखते हैं।

छह खोज 1. हमारी कल्पना से कहीं अधिक मानव प्रजातियां हैं। होमो लोंगी जैसी प्रजातियों की पहचान हाल ही में 2018 में की गई है। अब मानव की 21 ज्ञात प्रजातियां हैं। पिछले कुछ वर्षों में हमने महसूस किया है कि हमारे होमो सेपियन्स पूर्वजों ने निएंडरथल और उनके करीबी रिश्तेदार डेनिसोवन्स सहित मजबूत और बौनी तथा गठीली प्रजातियों से लेकर छोटे (5 फुट से कम लंबे) और छोटे मस्तिष्क वाले होमो नलेदी जैसे मनुष्यों तक आठ विभिन्न प्रकार के मानवों से मुलाकात की होगी। लेकिन होमो सेपियन्स अपरिहार्य विकासवादी गंतव्य नहीं थे।

न ही वे किसी साधारण रैखिक प्रगति या प्रगति की सीढ़ी में फिट होते हैं। होमो नलेदी का मस्तिष्क भले ही चिंपैंजी से छोटा रहा हो, लेकिन इस बात के प्रमाण हैं कि वे सांस्कृतिक रूप से समूह थे और अपने मृतकों का शोक मनाते थे। निएंडरथल ने प्रतीकात्मक कला का निर्माण किया लेकिन वे हमारे जैसे नहीं थे। निएंडरथल के पास कई अलग-अलग जैविक अनुकूलन थे, जिनमें हाइबरनेशन शामिल हो सकता था।

2. वर्ण संकर मानव हमारे इतिहास का हिस्सा हैं मानव की वर्ण संकर प्रजाति, जिसे कभी विशेषज्ञों द्वारा विज्ञान कथा के रूप में देखा जाता था, ने हमारे विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई होगी। वर्ण संकर के महत्व का प्रमाण आनुवंशिकी से मिलता है। निशान न केवल हमारी अपनी प्रजातियों के डीएनए में है (जिसमें अकसर निएंडरथल से विरासत में मिले महत्वपूर्ण जीन शामिल होते हैं) बल्कि वर्ण संकर के कंकाल भी होते हैं। एक उदाहरण डेनी नाम की लड़की का है, जिसकी मां निएंडरथल और पिता डेनिसोवन था। उसकी हड्डियाँ साइबेरिया की एक गुफा में मिलीं।

3. हम भाग्यशाली हो गए वैज्ञानिक जो सोचा करते थे उसकी तुलना में हमारा विकासवादी अतीत गड़बड़ रहा है। क्या आप कभी कमर दर्द से परेशान हुए हैं? यह आपको यह दिखाने के लिए पर्याप्त होना चाहिए कि हम पूरी तरह से अनुकूलित होने से बहुत दूर हैं। हम कुछ समय से जानते हैं कि एक पारिस्थितिकी तंत्र के जवाब में विकास एक साथ समाधान जुटाता है जो पहले से ही बदल सकता है। हालाँकि, हमारे मानव विकासवादी वंश में कई परिवर्तन शायद संयोग का परिणाम हैं।

उदाहरण के लिए, जहां अलग-थलग आबादी में एक विशेषता होती है, जैसे कि उनकी उपस्थिति का कुछ पहलू, जिससे उनके अस्तित्व पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है और वंशजों में यह रूप बदलता रहता है। निएंडरथल के चेहरों की विशेषताएं (जैसे कि उनकी स्पष्ट भौंह) या शरीर (बड़ी पसलियों सहित) का परिणाम केवल आनुवंशिक बहाव के कारण निकला होगा। एपिजेनेटिक्स, जहां जीन केवल विशिष्ट वातावरण में सक्रिय होते हैं, चीजों को भी जटिल करते हैं। उदाहरण के लिए जीन किसी को अवसाद या सिज़ोफ्रेनिया का शिकार कर सकते हैं।

4. हमारा भाग्य प्रकृति से जुड़ा हुआ है हम खुद की कल्पना पर्यावरण के स्वामी के रूप में करना पसंद कर सकते हैं। लेकिन यह तेजी से स्पष्ट होता जा रहा है कि पारिस्थितिकी परिवर्तनों ने हमें ढाला है। हमारी अपनी प्रजातियों की उत्पत्ति जलवायु में बड़े बदलावों के साथ हुई क्योंकि हम समय के इन बिंदुओं पर अन्य प्रजातियों से अधिक अलग हो गए थे। ऐसा प्रतीत होता है कि मानव की अन्य सभी प्रजातियां जलवायु परिवर्तन के कारण समाप्त हो गई हैं।

तीन प्रमुख मानव प्रजातियां होमो इरेक्टस, होमो हीडलबर्गेंसिस और होमो निएंडरथेलेंसिस जलवायु में प्रमुख बदलावों जैसे एडम्स घटनाक्रम के साथ खत्म हो गईं। यह 42,000 साल पहले पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र का अस्थायी रूप से टूटना था, जो निएंडरथल के विलुप्त होने के साथ हुआ।

5. दयालुता एक विकासवादी लाभ है अनुसंधान ने भविष्य के मानव समाजों के बारे में आशान्वित महसूस करने के नए कारणों का खुलासा किया है। वैज्ञानिक मानते थे कि मानव प्रकृति के हिंसक हिस्सों ने हमें विकास की सीढ़ी पर एक कदम बढ़ाया है। लेकिन मानव प्रकृति की देखभाल करने वाले पक्ष और हमारी सफलता में इसके योगदान के प्रमाण सामने आए हैं। प्राचीन कंकाल बीमारी और चोटों से बचने के उल्लेखनीय संकेत दिखाते हैं, जो मदद के बिना असंभव नहीं तो मुश्किल होता।

मानव करुणा का चिह्न डेढ़ लाख साल पीछे तक फैला हुआ है। वैज्ञानिक ने कम से कम निएंडरथल के समय में चिकित्सा ज्ञान का पता लगाया है। परोपकारिता के कई महत्वपूर्ण जीवन लाभ हैं। इसने पुराने समुदाय के सदस्यों को महत्वपूर्ण ज्ञान देने में सक्षम बनाया। और चिकित्सा देखभाल ने कुशल शिकारियों को जीवित रखा।

6. हम एक संवेदनशील प्रजाति हैं विकास ने हमारे बारे में जितना हम कल्पना करना पसंद करते हैं, उससे कहीं अधिक भावनात्मक रूप से खुलासा किया है। यह दुनिया में हमारे स्थान के बारे में पांच साल पहले की तुलना में बहुत कम आश्वस्त करने वाला दृष्टिकोण है। लेकिन खुद को स्वार्थी, तर्कसंगत और प्रकृति में एक विशेषाधिकार प्राप्त स्थान के हकदार के रूप में देखना, इस समझ ने अच्छा काम नहीं किया है। हमारे ग्रह की स्थिति के बारे में नवीनतम रिपोर्ट पढ़ें। अगर हम स्वीकार करते हैं कि मनुष्य प्रगति का शिखर नहीं है, तो हम चीजों के सही होने का इंतजार नहीं कर सकते। हमारा अतीत बताता है कि हमारा भविष्य तब तक बेहतर नहीं होगा जब तक हम इसके बारे में कुछ नहीं करते।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़