चित्तीदार hyena की आवाज उसकी और समूह की पहचान का जरिया होती है

Hyena
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
लकड़बग्घों के लिए, अपने किसी साथी की पुकार का जवाब देने के बारे में फैसला करने से पहले यह जानना फायदेमंद होता है कि यह पुकार कौन लगा रहा है। वे अपने समूह के प्रत्येक सदस्य के साथ एक जैसा व्यवहार नहीं करते - और पुकार लगाने वाला उनके क्षेत्र में घुसपैठिया भी हो सकता है।

अफ्रीका में बड़ी झाड़ियों वाले इलाकों में शांत रातों में, आप लगातार किसी जानवर की दूर से आती आवाज या हूक सुन सकते हैं। यह अनूठी आवाज चित्तीदार लकड़बग्घे (क्रोकुटा क्रोकुटा) की है, जो दूर से एक दूसरे से संवाद करने के लिए यह आवाज निकालते हैं। लकड़बग्घों के लिए, अपने किसी साथी की पुकार का जवाब देने के बारे में फैसला करने से पहले यह जानना फायदेमंद होता है कि यह पुकार कौन लगा रहा है। वे अपने समूह के प्रत्येक सदस्य के साथ एक जैसा व्यवहार नहीं करते - और पुकार लगाने वाला उनके क्षेत्र में घुसपैठिया भी हो सकता है।

पशु समाजों में, पहचान संकेत आम होते हैं। वे समूहों के भीतर बातचीत में मध्यस्थता करते हैं, और अपने समूह-साथियों को दूसरे समूहों के प्रतियोगियों से अलग करके पहचानने में मदद करते हैं। हालाँकि, जैसे जैसे समूहों का आकार बढ़ता है और दिए जाने वाले संकेतों की दूरी बढ़ती जाती है, समूह के प्रत्येक सदस्य की पहचान चुनौतीपूर्ण होती जाती है हमने माना कि लकड़बग्घे के लिए लंबी दूरी से आवाज देना अपनी पहचान और समूह सदस्यता निर्धारित करने के लिए किया जा सकता है।

हमारे शोध ने यह निर्धारित करने की कोशिश की कि इन आवाजों के जरिए वह अपने साथियों तक क्या जानकारी पहुंचाते हैं, और उन आवाजों को सुनने वाले लकड़बग्घे यह कैसे निर्धारित करने में सक्षम होते हैं कि यह उनके समूह के किसी साथी की आवाज है या घुसपैठिए की। हमने पाया कि ये आवाजें अलग-अलग थीं। एक ही कबीले के लकड़बग्घों की आवाज इतनी समान नहीं थी कि वह अकेले आवाज से उसकी समूह सदस्यता की पहचान कर सके।

इसका मतलब है कि लकड़बग्घे को अपने समूह के साथियों की आवाज़ याद रखने में सक्षम होना चाहिए, याद रखने की एक प्रभावशाली क्षमता। इसका यह भी निहितार्थ है कि कैसे लकड़बग्घे एक दूसरे के साथ संपर्क बनाए रखते हैं और लंबी दूरी से अपने साथियों से संपर्क करते हैं। हमारे परिणाम बताते हैं कि आवाज निकालने वाले की पहचान काफी महत्वपूर्ण है और एक समूह की खास आवाज सुनने वाले लकड़बग्घे के लिए यह तय करने के लिए पर्याप्त जानकारी नहीं है कि जवाब देना है या नहीं।

इसके अलावा, विशिष्ट आवाजें अधिक आसानी से विकसित हो पाती हैं और अपने साथी की आवाज की पहचान करना लकड़बग्घे के लिए यह याद रखने के लिए पर्याप्त है कि आवाज देने वाला किस समूह से संबंधित है। लकड़बग्घा सामाजिक समूह चित्तीदार लकड़बग्घे पूरे उप-सहारा अफ्रीका में कई प्रकार के आवासों में पाए जा जाते हैं। उनकी आबादी 20,000 और 50,000 के बीच होने का अनुमान है, तंजानिया के सेरेन्गेटी पारिस्थितिकी तंत्र में सबसे अधिक सघन संख्या के साथ।

वे सामाजिक समूहों में रहते हैं, जिन्हें कबीले कहा जाता है, जो नामीबिया में कठोर अर्ध-रेगिस्तानी आवासों में केवल छह से लेकर केन्या के मासाई मारा नेशनल रिजर्व में 125 से अधिक लकड़बग्घों के आकार में हैं। इन सामाजिक समूहों के भीतर, धब्बेदार लकड़बग्घों का एक सख्त प्रभुत्व पदानुक्रम होता है जो यह निर्धारित करता है कि कौन पहले भोजन करेगा और कौन शिकार मारेगा। जब एक मादा लकड़बग्घा बच्चों को जन्म देती हैं, तो वे अपनी मां के ठीक नीचे प्रभुत्व की रैंकिंग में प्रवेश करते हैं और अपने बड़े भाई-बहनों को क्रम में नीचे धकेलते हैं।

युवा लकड़बग्घे अपने कबीलों के साथियों की स्थिति के साथ-साथ अपनी स्थिति सीखते हैं। आखिरकार, उन्हें पता चल जाता है कि वे और उनके कबीले के बाकी साथी इस पदानुक्रम में कहाँ फिट होते हैं। मादा अपने पूरे जीवन इस पदानुक्रम में बनी रहेंगी। जब नर वृद्ध हो जाते हैं, तो वे आमतौर पर दूसरे स्थान पर चले जाते हैं, जहाँ वे अपने नए कबीले के सबसे निचले पायदान के सदस्य बन जाते हैं।

चित्तीदार लकड़बग्घे एक समूह के रूप में एक क्षेत्र को साझा करते हैं और उसकी रक्षा करते हैं, लेकिन वे समूह बड़े हो सकते हैं और समूह के सदस्य अक्सर पूरे परिदृश्य में फैले होते हैं। इससे सदस्यों की गतिविधियों का समन्वय करना और शेरों और घुसपैठ करने वाले लकड़बग्घों से बचने में मदद का अनुरोध करना मुश्किल हो जाता है। इन लंबी दूरियों पर संवाद करने के लिए, चित्तीदार लकड़बग्घे अपनी आवाज का उपयोग करते हैं, वह एक तेज़ आवाज में बार बार एक ही तरह की ध्वनि निकालते हैं, जिसे पांच किलोमीटर दूर तक सुना जा सकता है।

जब लकड़बग्घे अपने समूह के साथियों की आवाज सुनते हैं तो वे अक्सर उनके पास पहुंचने की कोशिश करते हैं ताकि शेरों या अन्य घुसपैठियों से लड़ने में उनकी मदद कर सकें। और धब्बेदार लकड़बग्घा मादाएं अपने बच्चों की आवाज को पहचानती हैं। यदि लकड़बग्घे ऐसी आवाजें सुनते हैं जिन्हें वे नहीं पहचानते हैं, तो वे समझ जाते हैं कि यह घुसपैठियों की आवाज है। वे यह भी आकलन कर सकते हैं कि उन्होंने कितनी नई आवाजें सुनी हैं।

लकड़बग्घे के अपने समूह-साथियों के साथ जटिल संबंध होते हैं; मदद के लिए जाने से पहले यह जानना फायदेमंद हो सकता है कि कौन आवाज लगा रहा है। इसके अतिरिक्त, लंबी दूरी पर, आवाज लगाने वाले की विशिष्ट आवाज सुनना मुश्किल हो सकता है। और 100 से अधिक समूह साथियों की आवाजों को याद रखना संज्ञानात्मक रूप से कठिन हो सकता है। हम यह परीक्षण करना चाहते थे कि क्या लंबी दूरी की आवाज समूह के सदस्य की पहचान और समूह सदस्यता का संकेत देती हैं।

लकड़बग्घे की आवाज की रिकार्डिंग हमने अपने अध्ययन में शामिल चित्तीदार लकड़बग्घों की आवाजों को बड़ी संख्या में रिकॉर्ड किया। मारा हाइना प्रोजेक्ट 1988 से केन्या में मासाई मारा नेशनल रिजर्व में लकड़बग्घों के समूहों का अध्ययन कर रहा है। हमने रिकॉर्ड की गई प्रत्येक आवाज - आवृत्ति, या पिच, दूरी, और आवाज के उतार चढ़ाव - को चिह्नित करने के लिए कई प्रकार के ध्वनिक उपाय किए। फिर हमने यह परीक्षण करने के लिए एक मशीन लर्निंग तकनीक का उपयोग किया कि क्या आवाजों से लकड़बग्घों की या उनके समूह की पहचान हो पाई।

यह मशीन अपेक्षा से अधिक बार प्रत्येक आवाज की पहचान करने में सक्षम थी। इससे पता चलता है कि आवाज में भिन्नता है जिसका उपयोग आवाज लगाने वाले की पहचान करने के लिए किया जा सकता है। लेकिन यह मशीन प्रत्येक आवाज की समूह सदस्यता की पहचान करने में असमर्थ थी। हमने मशीन की सहायता से अपने परिणामों का उपयोग यह गणना करने के लिए भी किया कि आवाज की दोहरावदार प्रकृति आवाज देने वाले की सही पहचान करने की संभावना को कैसे बढ़ा सकती है। आवाज देते समय लगभग हमेशा उसे एक श्रृंखला के रूप में दोहराया जाता है और यह दोहराव लंबी दूरी से आवाज देने वाले लकड़बग्घे की पहचान करना आसान बना सकता है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़