हरितालिका तीज पर दान से शिव पार्वती की होती है विशेष कृपा

shivji parvatiji
Creative Commons licenses
हिंदू धर्म में सुहागिन स्त्रियों के लिए हरितालिका तीज का व्रत बहुत मायने रखता है। भाद्रपद की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि के दिन महिलाएं हरितालिका तीज का निर्जला व्रत रख भोलेनाथ और मां पार्वती की विधिवत पूजा कर अखंड सौभाग्य की कामना करती हैं।

हिंदू धर्म में तीज त्योहार बहुत खास होता है, इस दिन महिलाएं पूरे दिन उपवास रखती है और शिव शंकर संग मां पार्वती की विधिवत पूजा करती है, तो आइए हम आपको हरितालिका तीज पर मां पार्वती को प्रसन्न करने के उपाय बताते हैं।

हरितालिका तीज का महत्व 

पति की लंबी आयु के लिए महिलाएं हरितालिका तीज पर निर्जला व्रत करती है और भगवान शिव व माता पार्वती की पूजा करती है। इस दिन पूजा पाठ के साथ अगर कुछ चीजों का दान किया जाए तो शिव पार्वती की विशेष कृपा भक्तों को प्राप्त होती है और जीवन में आने वाली समस्याएं दूर हो जाती है। साथ ही साथ वैवाहिक जीवन में मधुरता हमेशा बनी रहती है तो आज हम आपको बता रहे हैं कि हरितालिका तीज पर किन चीजों का दान करना लाभकारी होगा, तो आइए जानते हैं। 30 अगस्त को हरितालिका तीज है। इस दिन मां पार्वती और भोलेनाथ को 16 प्रकार की पत्तियां अर्पित करने का विशेष महत्व है। इन सोलह पत्तियों से सौभाग्य में वृद्धि होती है। 

हरितालिका पर करें इन चीजों का दान

हरितालिका तीज के दिन गुड़ का दान करना बेहद ही शुभ माना जाता है इस दिन गुड़ दान करने से पति पत्नी के रिश्तों में मीठास बनी रहती है और परिवार में सुख शांति का प्रवेश होता है वही इस पवित्र दिन पर आप किसी गरीब या जरूरतमंद को फलों का दान करें ऐसा करने से शिव पार्वती की विशेष कृपा मिलती है वही दिन महिलाओं को स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं है तो वह दूर हो जाती है।

इसे भी पढ़ें: हरतालिका तीज व्रत करने वाली महिलाएं पार्वतीजी के समान सदैव सुखपूर्वक रहती हैं

बीमार स्त्रियां इस दिन जरूर फल का दान करें ऐसा करने से आपके स्वास्थ्य में सुधार होने लगेगा। हरितालिका के दिन अन्न का दान करना भी शुभ माना जाता है इस दिन आप गेंहू और जौ व चावल का दान कर सकते हैं। इसके दान से पुण्य फल की प्राप्ति होती है। वही चावल दान करने से शुक्र दोष से छुटकारा मिल जाता है और घर परिवार में सुख शांति बनी रहती है। इस बार हरितालिका पर आप वस्त्रों का दान जरूर करें इस दिन वस्त्रों का दान गरीब व जरूरतमंदों को करने से भगवान शिव और माता पार्वती प्रसन्न होकर अपने भक्तों पर कृपा बरसाती है और वैवाहिक जीवन में खुशहाली बनाएं रखती है। 

हरितालिका तीज का शुभ मुहूर्त 

हिंदू धर्म में सुहागिन स्त्रियों के लिए हरितालिका तीज का व्रत बहुत मायने रखता है। भाद्रपद की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि के दिन महिलाएं हरितालिका तीज का निर्जला व्रत रख भोलेनाथ और मां पार्वती की विधिवत पूजा कर अखंड सौभाग्य की कामना करती हैं। हरितालिका तीज पर प्रदोष काल पूजा का मुहूर्त 30 अगस्त 2022 शाम 06.33 से रात 08.51 तक है।

हरितालिका तीज व्रत पर सोलह पत्तियों का है खास महत्व 

हरितालिका तीज व्रत के प्रभाव से महिलाओं को पति की दीर्धायु, परिवार के सुख-शांति और सुयोग्य वर प्राप्ति का आशीर्वाद मिलता है। इस दिन पूजा में 16 प्रकार की इच्छपूर्ती पत्तियां महादेव-मां पार्वती को जरूर चढ़ाना चाहिए। इससे गौरीशंकर जल्दी प्रसन्न होते हैं।हरितालिका तीज की पूजा में बेलपत्र, तुलसी, जातीपत्र, सेवंतिका, बांस, देवदार पत्र, चंपा, कनेर, अगस्त्य, भृंगराज, धतूरा, आम पत्ते, अशोक पत्ते, पान पत्ते, केले के पत्ते, शमी के पत्ते भोलेनाथ और पार्वती को विशेषतौर पर चढ़ाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: अखंड सौभाग्य के लिए स्त्रियां करती हैं हरितालिका तीज व्रत

बिल्वपत्र- सौभाग्य, जातीपत्र- संतान सुख, शमी के पत्ते- धन और समृद्धि, पान के पत्ते- परस्पर प्रेम में वृद्धि, केले के पत्ते– सफलता, सेवंतिका- दांपत्य सुख, आम के पत्ते- मंगल कार्य। हरितालिका तीज पर निर्जला व्रत रखें। सोलह श्रृंगार कर शिव-पार्वती का पूजन करें। इस दिन खासकर रात्रि जागरण करें और रात भर प्रभु का कीर्तन करें। हरितालिका तीज व्रत का पारण अगले दिन महादेव और मां पार्वती की प्रतिमा का विसर्जन करने के बाद करें।

ये चीजें अर्पित करने से मां होती है प्रसन्न 

1. खीर का भोग- मां पार्वती को खीर का भोग लगाएं, इससे वैवाहिक सम्बन्ध मधुर होंगे।

2. फुलेरा- फूल-पत्तियों और बांस से बने फुलेरा शंकर भगवान और मां पार्वती को अर्पित करें, इससे ईश्वर प्रसन्न होंगे। 

3. सुहाग पिटारा- बिंदी, सिंन्दूर इत्यादि 16 श्रृंगार के सामान देवी को अर्पित करें लाभ होगा। 

4. अभिषेक करें- दूध तथा जल से अभिषेक करें। 

5. हरितालिका तीज व्रत का पाठ भी होगा फलदायी।

- प्रज्ञा पाण्डेय

अन्य न्यूज़