राजनीति की सखी मॉडलिंग (व्यंग्य)

राजनीति की सखी मॉडलिंग (व्यंग्य)

उन्होंने मेहरबानी की, तो पहले हमारे साथ वाले अंदर गए और उन्हें तुरंत पहचान लिया गया, अरे आप बैठिए। अब हमें भी अन्दर प्रवेश की इजाज़त मिली। बातचीत शुरू होकर यहां वहां घूमने लगी, हमारे साथ वाले ने आंख के इशारे से बता दिया कि अपने खास आदमी हैं...

उनसे मिलने जाना ही पड़ा क्यूंकि और कोई चारा खाने के लिए नहीं रह गया था। राजनीति बांचने वालों का चारा सामाजिक पशुओं को एक न एक दिन खाना पड़ता है। जनाब अभी अभी अपने चुनाव क्षेत्र से लौटे थे। आम लोगों को लकड़ी के बेंच या प्लास्टिक की कुर्सी पर ही बिठाया जाता है। आजकल तो चाय भी डिस्पोजल में निबटा दी जाती है। हमारे साथ उनके ख़ास भी थे लेकिन नए सख्त दरबान ने उन्हें हमारे जैसा हल्का बंदा ही समझा। साहब अभी ठीक से नहा रहे थे इसलिए समय लगना ही था। नहाने के बाद ही उन्हें सूचित किया जाना था। स्वागत चाय के बाद दाल भात का समय होने लगा था। खैर, साहब को सूचित किया गया कि दो आम आदमी बाहर बैठे हैं आपके दर्शन करना चाहते हैं।

इसे भी पढ़ें: दूसरों की जय से पहले...(व्यंग्य)

उन्होंने मेहरबानी की, तो पहले हमारे साथ वाले अंदर गए और उन्हें तुरंत पहचान लिया गया, अरे आप बैठिए। अब हमें भी अन्दर प्रवेश की इजाज़त मिली। बातचीत शुरू होकर यहां वहां घूमने लगी, हमारे साथ वाले ने आंख के इशारे से बता दिया कि अपने खास आदमी हैं तो साहब ने एहसान जताते हुए बताया कि अभी फील्ड से लौटे हैं। वोटों को पटाए रखना पड़ता है। यह जो सफ़ेद कपडे उन्होंने पहने हैं ऐसे कई जोड़े तैयार रखने पड़ते हैं। फील्ड में बहुत गंदी गंदी जगह पर गरीबों की बस्तियां हैं। कभी-कभी उस सडांध वाले माहौल में भी जाना पड़ता है। कमबख्त बदबू जिस्म के अन्दर तक घुस जाती है। वापिस आकर तुरंत विदेशी बॉडीवाश से नहाना पड़ता है और सुगन्धित कपडे पहनने पड़ते हैं नहीं तो बीमार होने का खतरा रहता है। मुझे तब ही पता चला कि इन्हें तो बहुत ज़्यादा मेहनत करनी पड़ती है। 

इसे भी पढ़ें: असली ज़िम्मेदार की मुश्किल खोज (व्यंग्य)

मॉडलिंग और राजनीति में कई चीज़ें कॉमन देखी जा सकती है तभी दोनों सखियां जैसी हैं। वहां कॅरियर दुनिया, देश, प्रांत जिला शहर से मोहल्ले तक चलता है। अलग-अलग मंच व मापदंडों पर परखा जाता है तब कहीं बंदा आगे खिसकता है। इसमें बुरा मानने वाली बात नहीं है, राजनीति की तरह वहां भी कहीं थोडा कहीं ज़्यादा नंगा होना पड़ता है। वह अलग बात है कि वहां शालीनता व सलीका साथ होता है, हां राजनीति के हमाम में नंगई ज़्यादा है। अपनी छिपाई जाती है दूसरे की ढूंढ ढूंढ कर सबको दिखाई जाती है। विश्वास, आत्मविश्वास, विश्वासघात, चलने, चाल बदलने का तरीका, बात करने व बात फेंकने का अंदाज़ मॉडलिंग जैसा ही होता है।  

दोनों व्यवसायों में चुनाव जीतने के बाद ध्यानपूर्वक यह बयान दिया जाता है कि देश और समाज के लिए क्या क्या करेंगे। क्या नहीं करना है यह भी लगे हाथ दिमाग में सुनिश्चित कर लिया जाता है। फिटनेस का फंडा दोनों जगह है वहां उत्तम स्वास्थ्य ज़रूरी है तो राजनीति में सफल होते ही फिटनेस खुद शरीर में प्रवेश कर जाती है। सम्प्रेषण क्षमता, दूसरों से जुड़ाव, परिधान व व्यक्तित्व ज़रूरी है मगर राजनीति में जाति, धर्म, धन और ताक़त के पीछे सब छिप जाता है। राजनीति तकनीक, डिजायनर नारे, विज्ञापन और भाषण प्रयोग करती है जिन्हें देश के लिए मॉडल बना दिया जाता है। विशेषज्ञ यह काम करके नुमांया हो जाते हैं और राजनीतिज्ञों की जीत के मॉडल हो जाते हैं। 

- संतोष उत्सुक