सबसे महंगा आयोजन, भ्रष्टाचार के आरोप, भारत के सैकड़ों मजदूरों की मौत, क्यों फीफा विश्व कप का सबसे विवादास्पद मेजबान बना कतर?

 FIFA World Cup
prabhasakshi
अभिनय आकाश । Nov 21, 2022 4:29PM
विश्व कप के मेजबान के रूप में कतर का चयन लंबे समय से रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरा रहा है। फीफा के अधिकारियों द्वारा वोटिंग के बाद 2010 में चयन की घोषणा की गई थी।

20 नवंबर से फीफा विश्व कप 2022 का आगाज हो गया है। पहली बार किसी फुटबॉल वर्ल्ड कप का आयोजन मध्य-पूर्व देश में हो रहा है। कतर की राजधानी दोहा में फीफा विश्व कप 2022 का आयोजन हो रहा है। जिस देश की आबादी महज 30 लाख है और जहां गर्मी में तापमान 45 डिग्री से भी ऊपर चला जाता है। जहां समलैंगिकता अपराध है, उस देश को टूर्नामेंट की मेजबानी करने का मौका कैसे मिल गया? साल 2010 में अमेरिका, साउथ कोरिया, ऑस्ट्रेलिया और जापान की दावेदारी के बावजूद उसने फीफा वर्ल्ड कप की मेजबानी हासिल की। कतर टूर्नामेंट होस्ट करने वाला पहला अरब देश है। 2010 में तत्कालीन फीफा अध्यक्ष सेप ब्लाटर ने जब कतर को 2022 फुटबॉल वर्ल्ड कप की मेजबानी सौंपी तभी से इस देश को मेजबानी सौंपे जाने के फैसले का विरोध शुरू हो गया था। खुद सेप ब्लाटर ने टूर्नामेंट के शुरू होने से एक हफ्ता पहले कहा कि कतर को विश्व कप का मेजबान चुनना गलती थी। ऐसे में आइए जानते हैं कि फीफा विश्व से ज्यादा इस बार इसके मेजबान की चर्चा क्यों हो रही है। क्या है कतर के मेजबानी जीतने के पीछे पैसे के इस्तेमाल के आरोप। श्रमिकों की मौंत के आंकड़ों का सच और मानवाधिकारों के हनन से जुड़े विषय। कुल मिलाकर कहें तो 30 लाख की आबादी वाली देश के दुनिया के सबसे महंगे आयोजन के पीछे की कहानी क्या है?

इसे भी पढ़ें: FIFA WorldCup में मैच से पहले लगा ऑस्ट्रेलिया को बड़ा झटका, टूर्नामेंट से बाहर हुआ ये खिलाड़ी

बुनियादी ढांचे का निर्माण 

कतर विश्व कप की मेजबानी करने वाला अब तक का सबसे छोटा देश है। फीफा विश्व कप एक जटिल अंतरराष्ट्रीय खेल आयोजन है, जो बड़ी संख्या में आगंतुकों को आकर्षित करता है और उन्हें समायोजित करने के लिए बुनियादी ढांचे की आवश्यकता होती है। केवल 4,471 वर्ग मील वाला कतर अमेरिकी राज्य कनेक्टिकट से लगभग 20% छोटा है। देश का अधिकांश भाग बंजर रेतीला मैदान है और इसके अधिकांश 2.8 मिलियन निवासी राजधानी दोहा के आसपास के क्षेत्र में रहते हैं। जब इसने 2010 में आयोजन का राइट जीता तो कतर में टूर्नामेंट के मंचन के लिए आवश्यक कई स्टेडियम, होटल और राजमार्ग तक नहीं थे। उनका निर्माण करने के लिए, देश ने प्रवासी श्रमिकों की विशाल आबादी की ओर रुख किया, जो इसकी श्रम शक्ति का 90% या उससे अधिक हिस्सा हैं। उन प्रवासी श्रमिकों के लिए काम करने और रहने की स्थिति अक्सर खतरनाक थी। कतर ने 14 मई 2010 को बिडिंग डॉक्यूमेंट जमा किए जिसके आधार पर 2022 के फीफा वर्ल्ड कप की मेजबानी सौंपी गई। कतर ने अपने बिडिंग डॉक्यूमेंट्स में वर्ल्ड कप की तैयारियों के लिए 5.29 लाख करोड़ खर्च करने का पोटेंशियल दिखाया था। 

 फीफा वर्ल्ड कप के आयोजन का खर्च

 कतर रूस ब्राजील साउथ अफ्रीका जर्मनीसाउथ कोरिया+ जापान फ्रांस  अमेरिका
 17.9 लाख करोड़ 94.5 हजार करोड़ 1.2 लाख करोड़ 29.5 हजार करोड़ 35 हजार करोड़ 57 हजार करोड़ 18.7 हजार करोड़ 407 करोड़

इसे भी पढ़ें: FIFA World Cup 2022 के आयोजन के लिए जानें कितने रुपये हुए हैं खर्च, अबतक का है सबसे महंगा टूर्नामेंट

 

 प्रवासी श्रमिकों की मौत

गार्जियन द्वारा 2021 की जांच में पाया गया कि कतर में 2010 के बाद से पांच दक्षिण एशियाई देशों के 6,500 से अधिक प्रवासी श्रमिकों की मृत्यु दुर्घटनाएं, कार दुर्घटनाएं, आत्महत्याएं और गर्मी सहित अन्य कारणों से हुई है। उनमें से कुछ श्रमिकों में शामिल हैं जो स्टेडियम निर्माण स्थल पर गिर गए थे और इससे बाहर निकलने के बाद उनकी मृत्यु हो गई थी। दूसरों की कंपनी बस में काम करने के रास्ते में सड़क यातायात दुर्घटनाओं में मृत्यु हो गई। कई अन्य लोग अचानक अपने श्रम शिविरों में एक अस्पष्टीकृत तरीके से मर गए। फीफा और कतर दोनों ही इन आंकड़ों को लेकर अपने दावे करते हैं। कतर का कहना है कि विश्व कप निर्माण स्थलों पर काम के प्रत्यक्ष परिणाम के रूप में केवल तीन लोगों की मृत्यु हुई है और 37 गैर-कार्य-संबंधित" श्रमिकों की मृत्यु को स्वीकार करता है। लोकसभा में जारी आंकड़े बताते हैं कि 2020 से 2022 के बीच पिछले 3 साल में 72,114 मजदूर भारत से कतर पहुंचे। विदेश मंत्रालय के मुताबिक, 2011 से 2022 के बीच कतर में रहते हुए 3,313 भारतीय मजदूरों ने अपनी जान गंवा दी। 

घूसखोरी और भ्रष्टाचार के आरोप 

विश्व कप के मेजबान के रूप में कतर का चयन लंबे समय से रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरा रहा है। फीफा के अधिकारियों द्वारा वोटिंग के बाद 2010 में चयन की घोषणा की गई थी। कतर ने अमेरिका, दक्षिण कोरिया, जापान और ऑस्ट्रेलिया की बोलियों पर जीत हासिल की। वर्षों से फीफा और अन्य संगठनों दोनों के विभिन्न अधिकारियों पर कतर में विश्व कप का आयोजन करने के लिए रिश्वत लेने या मांग करने का आरोप लगाया गया है। 5 मई 2011 को फीफा के जनरल सेक्रेटरी के ऑफिस से एक ईमेल लीक हुआ। जिसमें दावा किया गया कि कतर ने विश्व कप की मेजबानी के अधिकार पैसे देकर खरीदे हैं। भ्रष्टाचार के आरोप में फीफा के वाइस प्रेसिडेंट जैक वॉर्नर को सस्पेंड कर दिया गया। लेकिन जांच के बाद सभी आरोपों पर गलत पाया गया। 

इसे भी पढ़ें: भारत के भगोड़े पर कतर का उमड़ा प्यार, जिहादी जाकिर फीफा वर्ल्ड कप में करेगा 'इस्लाम का प्रचार'

अन्य मानवाधिकारों का हनन

कतर और विश्व कप के बारे में श्रमिकों से इतर मानवाधिकारों के हनन पर चिंता भी एक बड़ा विषय रहा है। एक शब्द में कहा जाए तो कतर में मानवाधिकारों की स्थिति खराब है। इस हफ्ते, ह्यूमन राइट्स वॉच ने फुटबॉल से परे एक रिपोर्ट प्रकाशित किया जिसमें इसे 2022 विश्व कप के लिए कतर की तैयारियों के साथ कई मानवाधिकार संबंधी चिंताओं को चिन्हित किया। कतर की दंड संहिता विवाह के बाहर यौन संबंध को अपराध बनाती है, जिसके कारण बलात्कार पीड़ितों के खिलाफ मुकदमा चलाया गया है। समलैंगिकता को प्रभावी रूप से आपराधिक बना दिया गया है। पुरुषों के बीच यौन संबंध सात साल तक की जेल की सजा है।

अन्य न्यूज़