100 Powerful Indians: सबसे शक्तिशाली लोगों की लिस्ट में टॉप पर PM मोदी, योगी के ग्राफ में बड़ा इजाफा, जानिए राहुल का क्या है हाल?

100 Powerful Indians: सबसे शक्तिशाली लोगों की लिस्ट में टॉप पर PM मोदी, योगी के ग्राफ में बड़ा इजाफा, जानिए राहुल का क्या है हाल?

पीएम मोदी के आलोचकों का मानना था कि कोरोना महामारी, कृषि कानूनों को वापस लेने से उनकी छवि धूमिल हुई है। लेकिन ये सारे दावे हवा हवाई साबित हुए हैं। पीएम के रूप में पिछले आठ साल से मोदी एक नियमितता के साथ बने हुए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारतीय राजनीति और वैश्वक कूटनीति का एक ऐसा नाम है जिसका डंका दुनियाभर की चौपालों पर बज रहा है। पीएम मोदी की लोकप्रियता में लगातार इजाफा हो रहा है और वो देश के 100 सबसे शक्तिशाली लोगों की सूची में पहले स्थान पर काबिज हैं। इसके अलावा इस सूची में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, संघ प्रमुख मोहन भागवत, बीजेपी चीफ जेपी नड्डा व सपा प्रमुख अखिलेश यादव का नाम भी शामिल है। 100 पॉवरफुल लोगों की सूची इंडियन एक्सप्रेस ने जारी की है। 

मोदी की लोकप्रियता में लगातार इजाफा 

पीएम मोदी के आलोचकों का मानना था कि कोरोना महामारी, कृषि कानूनों को वापस लेने से उनकी छवि धूमिल हुई है। लेकिन ये सारे दावे हवा हवाई साबित हुए हैं। पीएम के रूप में पिछले आठ साल से मोदी एक नियमितता के साथ बने हुए हैं जो उनकी उपस्थिति का विस्तार करते हैं और उनके आलोचकों के मुंह पर करारा तमाचा भी है। कोरोना की दूसरी लहर के बाद टीकाकरण कार्यक्रम हो या, हाल ही में यूरोप से 22,000 से अधिक युवा भारतीयों को एयरलिफ्ट करने का मामला हर मोर्चे पर प्रधानमंत्री सच्चे प्रधान प्रस्तावक के रूप में खड़े हुए हैं। 

योगी के ग्राफ में बड़ा इजाफा 

पीएम मोदी के बाद इस सूची में दूसरे नंबर पर अमित शाह, तीसरे नंबर पर मोहन भागवत, चौथे पर जेपी नड्डा, पांचवें पर मुकेश अंबानी और छठे नंबर पर योगी आदित्यनाथ हैं। सत्ता का रास्ता लखनऊ से होकर गुजरता है और इसके साथ पावर लिस्ट 2022 को पक्का किया गया है। पिछले साल के 13वें नंबर से योगी आदित्यनाथ छठे नंबर पर पहुंच गए हैं।  इसके अलावा इस सूची में सातवें नंबर पर गौतम अडानी, आठवें पर अजित डोभाल, नौवें पर केजरीवाल, दसवें पर निर्मला सीतारमण हैं। इस लिस्ट में राहुल गांधी 51वें नंबर पर हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।