नए साल के पहले दिन एमपी के किसानों के खातों में ट्रासंफर हुए "किसान सम्मान निधि योजना" की 10वीं किस्त

नए साल के पहले दिन एमपी के किसानों के खातों में ट्रासंफर हुए

नए साल 2022 का पहला दिन देश के अन्नदाताओं को समर्पित रहेगा। दोपहर 12:30 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएम-किसान की 10वीं किस्त जारी करने का सौभाग्य मिलेगा। इसके तहत 20 हजार करोड़ रु की राशि के ट्रांसफर से 10 करोड़ से अधिक किसान परिवारों को लाभ होगा।

भोपाल। नए साल के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी शनिवार को किसान सम्मान निधि योजना की 10वीं किस्त  जारी की। पीएम ने 10 करोड़ से अधिक किसान को 20 हजार करोड़ रुपये से अधिक की धनराशि उनके खातों में ट्रांसफर किए। पीएम मोदी ने आज दोपहर 12:30 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत वित्तीय लाभ की 10वीं किस्त जारी की।

आपको बता दें कि किसान सम्मान निधि योजना का मध्य प्रदेश के किसानों को भी लाभ मिला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में मध्य प्रदेश के 351 किसान उत्पादक समूहों को 14 करोड़ रुपए उनके खातों में ऑनलाइन ट्रांसफर किए है। 

इसे भी पढ़ें:PM मोदी ने 10 करोड़ से ज्यादा किसानों को दिया नए साल का तोहफा, जारी की पीएम-किसान की 10वीं किस्त 

दरअसल इसे लेकर पीएम मोदी ने ट्विट करते हुए लिखा कि- ”नए साल 2022 का पहला दिन देश के अन्नदाताओं को समर्पित रहेगा। दोपहर 12:30 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएम-किसान की 10वीं किस्त जारी करने का सौभाग्य मिलेगा। इसके तहत 20 हजार करोड़ रु की राशि के ट्रांसफर से 10 करोड़ से अधिक किसान परिवारों को लाभ होगा।

वहीं पिछले साल भी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत 25 दिसंबर, 2021 को किस्त जारी की थी। तब इस योजना के तहत कुल 18,000 करोड़ रुपये 9 करोड़ किसानों के बैंक खातों में भेजे गए थे।

इसे भी पढ़ें:वैष्णो देवी मंदिर मामला: सरकार ने किया मुआवजे का ऐलान, कवींद्र गुप्ता बोले- जो चूक हुई उसके बारे में सभी को विचार करना होगा 

इसी कड़ी में इस योजना के पैसे लाभार्थी किसानों के बैंक खातों में सीधे जमा किये जाते हैं। इस योजना के तहत सभी भूमिधारक किसानों को 2 हजार रुपये की तीन समान किस्तों में प्रति वर्ष 6,000 रुपये की आय सहायता दी जाती है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।