वंदे भारत मिशन के तहत 11.23 लाख भारतीय विदेश से लाए गए वापस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 20, 2020   19:53
वंदे भारत मिशन के तहत 11.23 लाख भारतीय विदेश से लाए गए वापस

वंदे भारत मिशन का पांचवां चरण चल रहा है और इसके तहत 19 अगस्त तक 22 देशों के लिये भारत के 23 हवाई अड्डों से 500 अंतरराष्ट्रीय उड़ानों और 130 घरेलू फीडर उड़ानों का संचालन किया गया। उन्होंने कहा कि इस महीने के अंत तक 375 और उड़ानों का संचालन होना हैं।

नयी दिल्ली। विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर सरकार द्वारा सात मई को वंदे भारत मिशन शुरू करने के बाद से अब तक लगभग 11.23 लाख भारतीयों को स्वदेश लाया जा चुका है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने साप्ताहिक प्रेस वार्ता में बताया कि वर्तमान में वंदे भारत मिशन का पांचवां चरण चल रहा है और इसके तहत 19 अगस्त तक 22 देशों के लिये भारत के 23 हवाई अड्डों से 500 अंतरराष्ट्रीय उड़ानों और 130 घरेलू फीडर उड़ानों का संचालन किया गया। उन्होंने कहा कि इस महीने के अंत तक 375 और उड़ानों का संचालन होना हैं। 

इसे भी पढ़ें: वंदे भारत मिशन के तहत चार उड़ानों से करीब 400 प्रवासी राजस्थानी जयपुर पहुंचे

उन्होंने कहा कि हमारे मिशनों की मांगों के सतत मूल्यांकन के आधार पर कुवैत, मालदीव, मलेशिया, सिंगापुर, फिलीपीन, आस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और कनाडा के संबंध में उड़ानों को जोड़ा गया है। द्विपक्षीय एयर बबल सेवा का जिक्र करते हुए श्रीवास्तव ने कहा कि अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, यूएई, फ्रांस, जर्मनी, मालदीव, कतर के साथ सेवाएं अच्छी तरह चल रही हैं। प्रवक्ता ने कहा कि हाल ही में हमारे नागर विमानन मंत्री ने कहा था कि 18 और देशों के साथ ऐसी सेवाएं शुरू करने को लेकर बातचीत चल रही है। इनमें आस्ट्रेलिया, इटली, जापान, नाइजीरिया, बहरीन, इजराइल, केन्या, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया, रूस, बांग्लादेश, भूटान, अफगानिस्तान, श्रीलंका आदि शामिल है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।