सरकार-किसान के बीच 11वें दौर की वार्ता शुरू, क्या निकलेगा समाधान या आएगी बैठक की नई तारीख ?

सरकार-किसान के बीच 11वें दौर की वार्ता शुरू, क्या निकलेगा समाधान या आएगी बैठक की नई तारीख ?

किसान-सरकार के बीच अब तक 10 दौर की वार्ता हो चुकी है जिसमें कोई समाधान नहीं निकल सका है। हालांकि सरकार ने 10वें दौर की वार्ता में किसानों के समक्ष तीनों कानूनों के क्रियान्वयन को डेढ़ साल तक स्थगित करने का प्रस्ताव रखा था।

नयी दिल्ली। केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर 57 दिनों से किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। इसी प्रदर्शन को रोकने के लिए सरकार लगातार किसानों के साथ बातचीत कर रही है। सरकार-किसान के बीच 11वें दौर की वार्ता विज्ञान भवन में शुरू हो चुकी है। इस बैठक में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और सोमप्रकाश मौजूद हैं।

बता दें कि किसान-सरकार के बीच अब तक 10 दौर की वार्ता हो चुकी है जिसमें कोई समाधान नहीं निकल सका है। हालांकि सरकार ने 10वें दौर की वार्ता में किसानों के समक्ष तीनों कानूनों के क्रियान्वयन को डेढ़ साल तक स्थगित करने का प्रस्ताव रखा था लेकिन किसान संगठनों ने उनके इस प्रस्ताव को भी खारिज कर दिया। वहीं कुछ किसान नेताओं ने कहा कि प्रस्ताव पर अभी अंतिम निर्णय किया जाना बाकी है। अब नए सिरे से एक बार फिर से सरकार किसानों की समस्याओं का समाधान करने के लिए बातचीत कर रही है। 

इसे भी पढ़ें: जयंत चौधरी ने मोदी सरकार पर किसानों के खिलाफ साजिश रचने का लगाया आरोप 

उल्लेखनीय है कि किसान संगठन लगातार केंद्र सरकार से तीनों कानूनों को वापस लिए जाने की मांग कर रहे हैं। इसके अलावा वह न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) कानून बनाने का भी मुद्दा उठाए हुए हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।