जयंत चौधरी ने मोदी सरकार पर किसानों के खिलाफ साजिश रचने का लगाया आरोप

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   09:31
  • Like
जयंत चौधरी ने मोदी सरकार पर किसानों के खिलाफ साजिश रचने का लगाया आरोप

राष्ट्रीय लोकदल के उपाध्यक्ष जयंत चैधरी ने आरोप लगाया, ‘‘प्रधानमंत्री किसानों को मूर्ख समझ रहे हैं। ऐसा पहली बार हो रहा है कि किसान आंदोलन के 58 दिन हो चुके हैं और 70-75 किसानों के शहीद होने के बाद भी सरकार कृषि कानूनों को वापस लेने को तैयार नहीं है।’’

मथुरा। राष्ट्रीय लोकदल के उपाध्यक्ष जयंत चैधरी ने बृहस्पतिवार को यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर किसानों के साथ नाइंसाफी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि केंद्र सरकार किसानों के खिलाफ साजिश रच रही है। उन्होंने आरोप लगाया कहा, ‘‘प्रधानमंत्री किसानों को मूर्ख समझ रहे हैं। ऐसा पहली बार हो रहा है कि किसान आंदोलन के 58 दिन हो चुके हैं और 70-75 किसानों के शहीद होने के बाद भी सरकार कृषि कानूनों को वापस लेने को तैयार नहीं है।’’ 

इसे भी पढ़ें: शिअद नेता मनजिंदर सिंह सिरसा का दावा, UP पुलिस ने उन्हें किया गिरफ्तार, ट्वीट कर दी जानकारी 

चौधरी ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों की कोई बात सुनने को तैयार ही नहीं है। या यूं कहें कि सुनकर भी अनसुना कर रही है। इस स्थिति को बदलने के लिए जरूरी हो गया है कि इससे निपटने के लिए हमें लंबी लड़ाई लड़नी पड़ेगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


दिल्ली में कोरोना के 256 नए मामले, फरवरी मे सर्वाधिक नये मामले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2021   20:50
  • Like
दिल्ली में कोरोना के 256 नए मामले, फरवरी मे सर्वाधिक नये मामले

राष्ट्रीय राजधानी में बृहस्पतिवार को कोविड-19 के 220 तथा बुधवार को 200 नए मामले आए थे। उससे पहले एक से लेकर 23 फरवरी तक रोजाना मामले 200 के नीचे रहे।

नयी दिल्ली। दिल्ली में शुक्रवार को कोविड-19 के 256 नए मामले सामने आए, जो फरवरी में एक दिन में आए सबसे अधिक मामले हैं। साथ ही, यहां इस दौरान एक मरीज की मौत भी हुई। अधिकारियों द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार यह जानकारी सामने आई है। यह लगातार तीसरा दिन है जब कोरोना वायरस के रोजाना मामले 200 या उसके पार चले गये हैं। राष्ट्रीय राजधानी में बृहस्पतिवार को कोविड-19 के 220 तथा बुधवार को 200 नए मामले आए थे। उससे पहले एक से लेकर 23 फरवरी तक रोजाना मामले 200 के नीचे रहे। 

इसे भी पढ़ें: MP सरकार ने कोरोना काल में किसानों, गरीब जनता की आर्थिक मदद की है: शिवराज

दिल्ली में 28 जनवरी को कोविड-19 के 199 नए मामले सामने आए थे। सरकार द्वारा जारी किए गए नवीनतम स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, महानगर में शुक्रवार को 256 नये मामले सामने आने से संक्रमण का आंकड़ा बढ़कर 6,38,849 हो गया है। यहां फिलहाल संक्रमण दर 0.41 फीसद है। स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, पिछले दिन 62,768 जांच की गईं, जिसके बाद ये नए मामले सामने आए। दिल्ली में 16 फरवरी को कोविड-19 के 94 नए मामले आए थे, जो नौ महीनों में सबसे कम है। नवीनतम बुलेटिन के अनुसार, दिल्ली में शुक्रवार को 1231 मरीज उपचाराधीन थे जबकि उसके पिछले दिन ऐसे मरीज 1169 थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


तथ्यों की जांच किए बिना निराधार बयान न दें प्रधानमंत्री: नारायणसामी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2021   20:46
  • Like
तथ्यों की जांच किए बिना निराधार बयान न दें प्रधानमंत्री: नारायणसामी

संघ शासित प्रदेश के विकास के लिए कुछ नहीं किया। पूर्व मुख्यमंत्री के बयान से एक दिन पहले मोदी ने यहां एक जन सभा में पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार की आलोचना की थी।

पुडुचेरी। पुडुचेरी के पूर्व मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने शुक्रवार को कहा कि पूर्ववर्ती कांग्रेस नीत सरकार पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने “निराधार आरोप” लगाए और उन्हें ऐसे बयान देने से पहले तथ्यों की जांच कर लेनी चाहिए। नारायणसामी ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री ने यहां आने से पहले “उनकी (नारायणसामी) सरकार को गिराने की साजिश रचने के अलावा”, संघ शासित प्रदेश के विकास के लिए कुछ नहीं किया। पूर्व मुख्यमंत्री के बयान से एक दिन पहले मोदी ने यहां एक जन सभा में पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार की आलोचना की थी। 

इसे भी पढ़ें: पूर्व CJI काटजू ने की नीरव मोदी के प्रत्यर्पण को रोकने की कोशिश, UK कोर्ट ने कहा- आप भरोसे के काबिल नहीं

नारायणसामी ने कहा कि वह प्रधानमंत्री के उस बयान पर स्तब्ध रह गए, जिसमें उन्होंने कहा था कि पिछले पांच वर्षों में कांग्रेस की सरकार ने पुडुचेरी के विकास के लिए कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा कि तथ्य यह हैं कि पुडुचेरी की जीडीपी 10.2 प्रतिशत थी, जबकि देश की जीडीपी सात प्रतिशत थी। उन्होंने कहा कि पुडुचेरी का वित्तीय घाटा 1.9 प्रतिशत था जबकि देश का वित्तीय घाटा 9.5 प्रतिशत था। नारायणसामी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने उनके उस ज्ञापन पर कोई कार्रवाई नहीं की जिसमें संघ शासित प्रदेश में उद्योग को बढ़ावा देने के लिए केंद्र से पहल करने का अनुरोध किया गया था।

इसे भी पढ़ें: ममता का सवाल, क्या चुनाव तिथियां मोदी और शाह के सुझावों के अनुसार घोषित की गईं?

नारायणसामी ने यहां संवाददाताओं से कहा कि उनकी सरकार ने, पूर्व उप राज्यपाल किरण बेदी द्वारा विकास कार्यों में बाधा उत्पन्न करने के बावजूद एंग्लो फ्रेंच टेक्सटाइल समेत तीन कपड़ा मिल को पुनर्जीवित करने लिए 36 करोड़ रुपये दिए। उन्होंने कहा कि इसलिए प्रधानमंत्री को ‘बिना तैयारी’ किए बयान नहीं देना चाहिए और पहले तथ्यों की जांच करनी चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


MP सरकार ने कोरोना काल में किसानों, गरीब जनता की आर्थिक मदद की है: शिवराज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2021   20:31
  • Like
MP सरकार ने कोरोना काल में किसानों, गरीब जनता की आर्थिक मदद की है: शिवराज

चौहान ने कहा कि मातृमें अपनी शिक्षा होनी चाहिए, लेकिन अंग्रेजी के ज्ञान से भी अब मध्य प्रदेश के बच्चों को अब वंचित नहीं रहना चाहिए, क्योंकि करियर में कई बार यह अंग्रेजी ही बाधा बन जाती है और इसलिए शिक्षा की व्यवस्था में आमूलचूल परिवर्तन की आवश्यकता है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना काल में प्रदेश सरकार ने विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं के तहत किसानों एवं गरीब जनता के खातों में 1,18,455 करोड़ रुपये डाले हैं। उन्होंने कहा कि मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस भ्रम फैला रही है कि भाजपा सरकारी स्कूल बंद कर देगी। उन्होंने आश्वस्त किया कि प्रदेश में कोई भी स्कूल बंद नहीं किया जाएगा। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान चौहान ने सदन में कहा कि कोरोना काल के 10-11 महीने में मध्य प्रदेश सरकार ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, श्रम सिद्धि अभियान, सामाजिक सुरक्षा पेंशन, बिजली बिलों में राहत, स्व-सहायता समूहों एवं प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना सहित विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं के तहत गरीब जनता के खातों में 1,18,455 करोड़ रुपये डाले हैं।

उन्होंने कहा कि इनमें से 86,493 करोड़ रुपये किसानों के खाते में सरकार ने डाले है। चौहान ने विपक्षी दल कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि आपने (कांग्रेस विधायकों ने) पहले आरक्षण के मामले में भ्रम फैलाया और उसके बाद अब भ्रम फैला रहे हैं कि यह भाजपा वाले सरकारी स्कूल बंद कर देंगे। उन्होंने कहा कि इसका कोई सवाल ही पैदा नहीं होता है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘सदन के नेता के नाते मैं आश्वस्त कर रहा हूं कि प्रदेश में कोई भी स्कूल बंद नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘हमने कल्पना की है कि हम 20-25 किलोमीटर के दायरे में एक बहुत उत्कृष्ट स्कूल खोलेंगे, जहां 8,000 से 10,000 बच्चे पढ़ें और स्कूल भवन, लाइब्रेरी, खेल का मैदान और शिक्षकों की पूरी व्यवस्था हो। बिना कोई स्कूल बंद किए हम कोशिश करेंगे कि उस स्कूल में बच्चे आएं और उन्हें लाने के लिए हम बसों की व्यवस्था भी करेंगे।’’ चौहान ने कहा कि मातृमें अपनी शिक्षा होनी चाहिए, लेकिन अंग्रेजी के ज्ञान से भी अब मध्य प्रदेश के बच्चों को अब वंचित नहीं रहना चाहिए, क्योंकि करियर में कई बार यह अंग्रेजी ही बाधा बन जाती है और इसलिए शिक्षा की व्यवस्था में आमूलचूल परिवर्तन की आवश्यकता है। 

इसे भी पढ़ें: फिर से शुरू हो रही दीनदयाल रसोई को लेकर विश्वास सारंग ने कांग्रेस पर साधा निशाना

उन्होंने कहा, ‘‘मेरी पूर्व सरकार ने तय किया था कि यदि मासूम बेटियों के साथ दुराचार होगा तो सीधे फांसी की सजा होगी। कांग्रेस विधायक डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ ने पूछा तो इसलिए बताना चाहता हूं कि मासूम बेटियों के साथ दुराचार के 74 प्रकरणों में न्यायालय ने मृत्युंदड की सजा दी है और 24 प्रकरण उच्चतम न्यायालय में अपील स्तर पर लंबित हैं।’’ चौहान ने कहा कि सरकार किसी की भी हो, इस तरह की घटनाएं दुर्भाग्यपूर्ण एवं शर्मनाक है। उन्होंने कहा, ‘‘इस तरह की घटनाएं रोकने के लिए तत्परता से कार्रवाई होनी चाहिए और हम भी कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।’’ शराब, मादक पदार्थ, चिटफंड, साइबर एवं भू माफियाओं के संबंध में उन्होंने कहा कि माफिया समाज के दुश्मन हैं और किसी भी माफिया को बख्शा नहीं जाएगा और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई जारी रहेगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept