• मध्य प्रदेश में विभिन्न राज्यों से श्रमिकों को लेकर 132 ट्रेन पहुँचीं, अभी भी प्रवासियों के लौटने का सिलसिला जारी

बसों के माध्यम से करीब 4 लाख और ट्रेन से करीब एक लाख 69 हजार श्रमिक लाये गये हैं। शुक्रवार तक गुजरात से 2 लाख 14 हजार, राजस्थान से एक लाख 25 हजार और महाराष्ट्र से एक लाख 33 हजार श्रमिक वापस लाये गये हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश में विभिन्न प्रदेशों से श्रमिकों को लेकर अब तक 132 ट्रेन आ चुकी हैं। प्रदेश में इन ट्रेनों से एक लाख 69 हजार श्रमिक लाये जा चुके हैं। जानकारी के मुताबिक कुल 140 ट्रेन आने की संभावना है। कल शनिवार को भी एक ट्रेन श्रमिकों को लेकर मध्य प्रदेश पहुँच रही है। अभी तक मुख्य रूप से महाराष्ट्र से 36, गुजरात से 30, हरियाणा से 15, तेलंगाना और पंजाब से 7-7, कर्नाटक तथा तमिलनाडु से 4-4, गोवा से 3 और केरल, राजस्थान, दिल्ली और जम्मू से 2-2 ट्रेन आ चुकी हैं। अपर मुख्य सचिव एवं प्रभारी स्टेट कंट्रोल-रूम आई.सी.पी. केशरी ने बताया कि अभी तक करीब 5 लाख 69 हजार श्रमिक वापस मध्य प्रदेश लौट आ चुके है। इनमें से बसों के माध्यम से करीब 4 लाख और ट्रेन से करीब एक लाख 69 हजार श्रमिक लाये गये हैं।

 

इसे भी पढ़ें: भोपाल में खेल गतिविधियां प्रारंभ करने के लिए खेल विभाग ने तैयार की गाइड लाइन

शुक्रवार तक गुजरात से 2 लाख 14 हजार, राजस्थान से एक लाख 25 हजार और महाराष्ट्र से एक लाख 33 हजार श्रमिक वापस लाये गये हैं। इसके साथ ही गोवा, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, केरल, आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु और तेलंगाना से भी श्रमिक लाये गये हैं। वही प्रदेश के बाहर के करीब 4 लाख 60 हजार श्रमिकों को अन्य प्रदेशों की सीमा तक बसों से पहुँचाया गया है। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए कि प्रवासी मजदूरों से संक्रमण न फैले इस बात की पूरी सावधानी रखी जाए। उनका स्वास्थ्य परीक्षण तथा ठीक ढंग से क्वारेंटाइन की व्यवस्था सुनिश्चित करें। क्वारेंटाइन सेंटर्स पर सभी आवश्यक व्यवस्थाएं हों। वहां आयसोलेशन के साथ शुद्ध भोजन, स्वच्छ जल, पंखे तथा शौचालय की अच्छी व्यवस्था हो।