पंजाब में चन्नी सरकार का हुआ कैबिनेट विस्तार, कांग्रेस के 15 विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथ

पंजाब में चन्नी सरकार का हुआ कैबिनेट विस्तार, कांग्रेस के 15 विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथ

कांग्रेस नेता राहुल गांधी और केंद्रीय आलाकमान के साथ मैराथन बैठकें करने के बाद, पंजाब के नवनियुक्त मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने अपने नए मंत्रिमंडल के लिए 15 सदस्यों के नामों को अंतिम रूप दिया, जिन्होंने पंजाब के मंत्री के तौर पर शपथ ली है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी और केंद्रीय आलाकमान के साथ मैराथन बैठकें करने के बाद, पंजाब के नवनियुक्त मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने अपने नए मंत्रिमंडल के लिए 15 सदस्यों के नामों को अंतिम रूप दिया, जिन्होंने पंजाब के मंत्री के तौर पर शपथ ली है। पंजाब में चरणजीत सिंह चन्नी के मंत्रिपरिषद के पहले विस्तार में ब्रह्म मोहिंद्रा, मनप्रीत बादल, तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा ने मंत्री पद की शपथ ली। इसके अलावा अरूणा चौधरी, सुखबिंदर सिंह सरकारिया, राणा गुरजीत सिंह, रजिया सुल्ताना और विजय इंदर सिंगला ने भी कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली। पंजाब मंत्रिपरिषद् विस्तार के दौरान भारत भूषण आशु, रणदीप सिंह नाभा और राजकुमार वेरका ने कैबिनेट मंत्री के तौर पर शपथ ली।

इसे भी पढ़ें: Punjab Swearing Ceremony : पंजाब में चन्नी सरकार का कैबिनेट विस्तार, मंत्रियों ने ली शपथ

1. ब्रह्म मोहिंद्रा : पटियाला निवासी ब्रह्म मोहिंद्रा पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह के खास माने जाते हैं. वह एक स्थानीय सरकार के मंत्री थे और उन्हें पंजाब का बड़ा हिंदू चेहरा माना जाता है।

2. भारत भूषण: लुधियाना के पुराने कांग्रेसी है, उन्हें पंजाब का एक और हिंदू चेहरा और युवाओं पर मजबूत पकड़ के लिए जाना जाता है। उन्होंने पिछली सरकार में खाद्य और आपूर्ति विभाग को देखा था।

3. मनप्रीत बादल: उन्होंने बादल परिवार के खिलाफ बगावत की और कांग्रेस में शामिल हो गए। वह पंजाब के वित्त मंत्री बने और अमरिंदर सिंह के लिए खास थे।

4. तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा: उन्होंने पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू का समर्थन करने के लिए अमरिंदर सिंह के खिलाफ विद्रोह किया। उन्हें पिछली राज्य सरकार में शक्तिशाली कैबिनेट मंत्रियों में से एक माना जाता था।

5. परगट सिंह: एक ओलंपियन हॉकी खिलाड़ी, परगट सिंह अकाली दल से हैं जिन्होंने अमरिंदर सिंह के खिलाफ विद्रोह किया और सिद्धू के दाहिने हाथ के रूप में जाने जाते हैं।

6. सुखबिंदर सरकारिया : अमरिंदर सिंह के लिए बेहद खास होने के बावजूद उन्होंने उनके खिलाफ बगावत कर दी। सरकारिया पिछली सरकार में राजस्व मंत्री थे।

7. विजय इंदर सिंगला: उन्होंने पहले शिक्षा मंत्री का पोर्टफोलियो संभाला था। गांधी परिवार से उनके घनिष्ठ संबंध माने जाते हैं।

8. राज कुमार वेरका: उन्हें पार्टी का दलित चेहरा माना जाता है।

9. राणा गुरजीत सिंह: एक विवाद में उनका नाम आने पर उन्हें अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली सरकार से इस्तीफा देना पड़ा था।

10. संगत सिंह गिलजियान: कई बार विधायक चुने गए गिलजियान अमरिंदर सिंह के कोर विधायक और टीम सिद्धू का हिस्सा थे। वह अब पार्टी से सरकार के पास जा रहे हैं।

11. रणदीप सिंह नाभा: उन्हें काका रणदीप सिंह नाभा के नाम से भी जाना जाता है और पंजाब विधानसभा में विधायक हैं।

12. अरुणा चौधरी: वह दीना नगर निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करती हैं।

13. रजिया सुल्ताना: वह कैबिनेट में शामिल होने वाली एकमात्र मुस्लिम महिला हैं। वह अमरिंदर सिंह के साथ अनबन के लिए जानी जाती है क्योंकि उसके आईपीएस पति को डीजीपी नहीं बनाया गया था।

14. गुरकीरत कोटली: वह पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते हैं और दूसरी बार खन्ना निर्वाचन क्षेत्र से विधायक चुने गए हैं।

15. अमरिंदर सिंह राजा वारिंग: बठिंडा से ताल्लुक रखते हैं और गांधी परिवार के करीबी माने जाते हैं।

इनमें से गुरकीरत सिंह कोटली, राजकुमार वेरका, संगत सिंह गिलजियान, अमरिंदर सिंह राजा वारिंग, राणा गुरजीत सिंह और परगट सिंह इस पद पर बिल्कुल नए हैं। इन नेताओं के अलावा पीसीसी के कार्यकारी अध्यक्ष कुलजीत नागरा का भी नाम सूची में शामिल था। लेकिन उन्होंने फेसबुक लाइव पर घोषणा की कि वह कैबिनेट का हिस्सा नहीं होंगे। एक युवा चेहरा, नागरा राहुल गांधी के करीबी और गांधी परिवार के वफादार के रूप में जाने जाते हैं।

रणदीप सिंह नाभा को लेकर हुआ बवाल

चरणजीत सिंह चन्नी नीत पंजाब सरकार के पहले मंत्रिमंडल विस्तार से कुछ घंटे पहले रविवार को पिछली अमरिंदर सिंह सरकार के मंत्रियों के समूह ने उन्हें मंत्रिमंडल से बाहर निकाले जाने पर सवाल उठाया है। इससे पहले, राज्य के कांग्रेस नेताओं के एक वर्ग ने प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को पत्र लिखकर मांग की कि दागी छवि वाले पूर्व मंत्री राणा गुरजीत सिंह को फिर से मंत्रिमंडल में शामिल न किया जाए। इन नेताओं का कहना है कि मंत्री पद उनकी (राणा गुरजीत) जगह साफ छवि वाले दलित नेता को दिया जाना चाहिए। इस पत्र की प्रति मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को भी भेजी गई है। एक अन्य घटनाक्रम में, पिछली अमरिंदर सिंह मंत्रिपरिषद में मंत्री रहे बलबीर सिंह सिद्धू और गुरप्रीत सिंह कांगड़ ने कैबिनेट विस्तार से कुछ समय पहले यहां संयुक्त संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया और पूछा कि उनकी क्या गलती थी कि उन्हें पद से हटा दिया गया। बलबीर सिद्धू ने भावुक होते हुए कहा, मेरा क्या कसूर है? जबकि कांगड़ ने भी यही सवाल किया। सूत्रों ने बताया कि पंजाब मंत्रिमंडल में सात नए चेहरों को शामिल किया जा सकता है जबकि पांच मंत्री जो अमरिंदर सिंह नीत सरकार का हिस्सा थे, उन्हें संभवत: हटा दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि परगट सिंह, राज कुमार वेरका, गुरकीरत सिंह कोटली, संगत सिंह गिलजियान, अमरिंदर सिंह राजा वारिंग, कुलजीत नागरा और राणा गुरजीत सिंह को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।