महाराष्ट्र में भीषण बारिश से मचे कोहराम से 213 लोगों की मौत, सैकड़ों लापता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 29, 2021   11:04
महाराष्ट्र में भीषण बारिश से मचे कोहराम से 213 लोगों की मौत, सैकड़ों लापता

महाराष्ट्र में पिछले सप्ताह हुई बारिश से संबंधित घटनाओं में मरने वालों की संख्या बुधवार को बढ़कर 213 हो गई, जिसमें केवल रायगढ़ जिले में लगभग 100 मौतें हुईं है। राज्य सरकार ने यह जानकारी दी। एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि आठ लोग अब भी लापता हैं।

मुंबई। महाराष्ट्र में पिछले सप्ताह हुई बारिश से संबंधित घटनाओं में मरने वालों की संख्या बुधवार को बढ़कर 213 हो गई, जिसमें केवल रायगढ़ जिले में लगभग 100 मौतें हुईं है। राज्य सरकार ने यह जानकारी दी। एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि आठ लोग अब भी लापता हैं। बीस जुलाई से भारी बारिश के कारण महाराष्ट्र के कई हिस्सों में, विशेष रूप से तटीय कोंकण और पश्चिमी जिलों में भारी बाढ़ और भूस्खलन हुआ है।

इसे भी पढ़ें: ओडिशा सरकार ने शुरू की 4,000 बस्तियों को राजस्व गांव का दर्जा देने की प्रक्रिया

आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि 213 मौतों में से रायगढ़ जिले में सबसे अधिक 95, सतारा में 46, रत्नागिरि में 35, ठाणे में 15, कोल्हापुर में सात, मुंबई में चार, पुणे में तीन, सिंधुदुर्ग में चार और पूर्वी महाराष्ट्र के वर्धा और अकोला जिले में दो-दो लोगों की मौत हुई। बयान में कहा गया है कि आठ लोग अब भी लापता हैं जबकि 52 घायलों का विभिन्न सरकारी और निजी अस्पतालों में इलाज चल रहा है। रायगढ़, सतारा और रत्नागिरि जिलों में अधिकांश मौतें भूस्खलन के कारण हुईं, जबकि बाढ़ ने कोल्हापुर और सांगली में कई लोगों की जान ले ली।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कांग्रेस की चुनावी तैयारी शुरू, कमलनाथ ने बुलाई महत्वपूर्ण बैठक

इसमें कहा गया है कि एक जून से अब तक महाराष्ट्र में बारिश से संबंधित घटनाओं में 300 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। बयान के अनुसार बाढ़ में कुल 61,280 पालतू जानवर भी मारे गए, जिनमें से अधिकांश सांगली, कोल्हापुर, सतारा और सिंधुदुर्ग जिलों में हैं। बयान में कहा गया है कि अकेले सांगली जिले में 2,11,808 सहित 4,35,879 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।