छत्तीसगढ़ में तीन वर्षों में मारे गए 216 नक्सली, 966 ने किया आत्मसमर्पण

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 23, 2020   16:40
छत्तीसगढ़ में तीन वर्षों में मारे गए 216 नक्सली, 966 ने किया आत्मसमर्पण

गृह मंत्री ने बताया है कि इस अवधि में मुठभेड़ के दौरान सुकमा जिले में 82 नक्सली, बीजापुर में 46, दंतेवाड़ा में 30, राजनांदगांव में 17, नारायणपुर में 16, बस्तर में सात, धमतरी में सात, कांकेर में छह, कबीरधाम में तीन और गरियाबंद तथा कोंडागांव जिले में एक-एक नक्सली को मार गिराया गया।

रायपुर। छत्तीसगढ़ में बीते तीन वर्षों के दौरान सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में 216 नक्सलियों को मार गिराया है। वहीं, 966 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया है। विधानसभा में बुधवार को कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक धनेंद्र साहू के सवाल के लिखित जवाब में गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने बताया कि वर्ष 2018-19, 2019-20 और वर्ष 2020-21 के दौरान सुरक्षा बलों ने राज्य के विभिन्न जिलों में हुई मुठभेड़ में 216 नक्सलियों को मार गिराया है। वहीं, इस दौरान 966 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण भी किया है। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना के चलते क्रिसमस के मौके पर बंद रहेगा एशिया का दूसरा सबसे बड़ा चर्च

गृह मंत्री ने बताया है कि इस अवधि में मुठभेड़ के दौरान सुकमा जिले में 82 नक्सली, बीजापुर में 46, दंतेवाड़ा में 30, राजनांदगांव में 17, नारायणपुर में 16, बस्तर में सात, धमतरी में सात, कांकेर में छह, कबीरधाम में तीन और गरियाबंद तथा कोंडागांव जिले में एक-एक नक्सली को मार गिराया गया। उन्होंने बताया कि इस दौरान राज्य के सुकमा जिले में 333 नक्सलियों ने, दंतेवाड़ा जिले में 300 ने, नारायणपुर जिले में 164 ने, बीजापुर जिले में 77 ने, कोंडागांव जिले में 46 ने, बस्तर में 36 ने, राजनांदगांव में सात ने तथा कांकेर जिले में तीन नक्सलियों ने सुरक्षा बलों के सामने आत्मसमर्पण किया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।