दिल्ली विधानसभा से 3 भाजपा विधायक सस्पेंड तो AAP विधायकों ने की मांग- केजरीवाल से माफी मांगें आदेश गुप्ता

दिल्ली विधानसभा से 3 भाजपा विधायक सस्पेंड तो AAP विधायकों ने की मांग- केजरीवाल से माफी मांगें आदेश गुप्ता
प्रतिरूप फोटो

विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल ने भाजपा विधायक अनिल बाजपेयी, जितेंद्र महाजन और अजय महावर को दिनभर के लिए निलंबित कर दिया। तीनों विधायक अपने स्थानों पर खड़े हो गए थे, जिसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने उनसे बैठने का आग्रह किया। विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष का आग्रह नहीं माना जिसके बाद उन्हें सदन से बाहर जाने के लिए कहा गया।

नयी दिल्ली। दिल्ली विधानसभा में सोमवार का दिन काफी ज्यादा हंगामेदार रहा है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ कथित अपमानजनक टिप्पणी करने के मामले में सदन में जमकर हंगामा हुआ। जिसको लेकर भाजपा के तीन विधायकों को आज दिनभर के लिए सस्पेंड कर दिया गया। 

इसे भी पढ़ें: राज्यसभा में संजय सिंह ने उठाई मांग, 'कश्मीर फाइल्स' फिल्म को यूट्यूब और दूरदर्शन पर दिखाया जाए 

विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल ने भाजपा विधायक अनिल बाजपेयी, जितेंद्र महाजन और अजय महावर को दिनभर के लिए निलंबित कर दिया। तीनों विधायक अपने स्थानों पर खड़े हो गए थे, जिसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने उनसे बैठने का आग्रह किया। लेकिन विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष का आग्रह नहीं माना जिसके बाद उन्हें सदन से बाहर जाने के लिए कहा गया।

AAP विधायकों ने की माफी की मांग

आम आदमी पार्टी विधायकों ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ भाजपा के दिल्ली अध्यक्ष आदेश गुप्ता की टिप्पणी पर नारेबाजी की और टिप्पणी को लेकर माफी मागने की मांग भी की। इतना ही नहीं आम आदमी पार्टी विधायकों ने आदेश गुप्ता के खिलाफ निंदा प्रस्ताव की भी मांग की। 

इसे भी पढ़ें: MCD unification Bill 2022: तीनों नगर निगम का होगा एकिकरण, केंद्र सरकार ने लोस में पेश किया बिल 

आपको बता दें कि दिल्ली से लेकर पश्चिम बंगाल के विधानसभा तक में सोमवार की कार्यवाही हंगामेदार रही। जहां एक तरफ दिल्ली विधानसभा में कथित टिप्पणी को लेकर हंगामा हुआ तो वहीं पश्चिम बंगाल विधानसभा में बीरभूम हिंसा मामले को लेकर हाथापाई तक हो गई। जिसको लेकर नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी समेत भाजपा के 5 विधायकों को अगले आदेश तक के लिए सस्पेंड कर दिया गया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।