केरल में कोविड-19 के 3,527 नए मामले आए, 3782 मरीज ठीक हुए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 26, 2020   20:29
केरल में कोविड-19 के 3,527 नए मामले आए, 3782 मरीज ठीक हुए

राज्य के विभिन्न जिलों में इस समय कुल 2,59,083 लोगों को निगरानी में रखा गया है जिनमें से 13,200 लोग अस्पतालों में भर्ती हैं। उन्होंने बताया कि नए संक्रमितों में 34 स्वास्थ्य कर्मी और 63 बाहर से आए लोग हैं जबकि 3,106 मरीज दूसरे संक्रमित के संपर्क में आने से महामारी की चपेट में आए हैं।

तिरुवनंतपुरम। केरल में शनिवार को कोविड-19 के 3,527 नए मामले आए जबकि 3,782 लोग संक्रमण मुक्त हुए। राज्य की स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा ने बताया कि गत 24 घंटों में 21 और लोगों की संक्रमण से मौत होने की वजह से केरल में महामारी में जान गंवाने वालों की संख्या तीन हजार के करीब पहुंच गई है। उन्होंने बताया कि राज्य में अबतक 7,35,611 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है जिनमें से 6,68,733 मरीज ठीक हो चुके हैं जबकि 63,752 मरीज उपचाराधीन हैं। 

इसे भी पढ़ें: केरल सरकार ने अगले 100 दिनों के लिए 10,000 करोड़ की विकास परियोजनाओं की घोषणा की

शैलजा ने यहां जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि गत 24 घंटे में 35,586 नमूनों की जांच की गई जिनमें से 9.91 प्रतिशत नमूनों में संक्रमण की पुष्टि हुई। उन्होंने बताया कि 21 और लोगों की संक्रमण से मौत होने की पुष्टि होने के बादराज्य में कोविड-19 से मरने वालों की संख्या बढ़कर 2,951 हो गई है। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि राज्य के विभिन्न जिलों में इस समय कुल 2,59,083 लोगों को निगरानी में रखा गया है जिनमें से 13,200 लोग अस्पतालों में भर्ती हैं। उन्होंने बताया कि नए संक्रमितों में 34 स्वास्थ्य कर्मी और 63 बाहर से आए लोग हैं जबकि 3,106 मरीज दूसरे संक्रमित के संपर्क में आने से महामारी की चपेट में आए हैं। स्वास्थ्य मंत्री के अनुसार , आज कोझिकोड जिले में सबसे अधिक 522 नए मामले आए है जबकि मलाप्पुरम में 513, एर्णाकुलम में 403, इडुक्की में 67 और कासरगोड में 52 और लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।