छत्तीसगढ़ में भी UK के खतरनाक कोरोना का खौफ फैला, ब्रिटेन से लौटे अब 4 लोग कोरोना पॉजेटिव मिले

छत्तीसगढ़ में भी UK के खतरनाक कोरोना का खौफ फैला, ब्रिटेन से लौटे अब 4 लोग कोरोना पॉजेटिव मिले

बता दें कि 9 दिसंबर से 23 दिसंबर के बीच ब्रिटेन से छत्तीसगढ़ कुल 33 लोग लौटे हैं, जिनमें से 11 लोगों के मोबाइल बंद हैं। ये सभी रायपुर के रहने वाले हैं। रायपुर के कटोरा तालाब, श्याम नगर, टैगोर नगर, शंकर नगर सहित कुछ अन्य इलाकों के ये लोग रहने वाले हैं।

रायपुर। छत्तीसगढ़ में भी अब ब्रिटेन के कोरोना का खौफ फैल गया है। यूके से छत्तीसगढ़ लौटे 4 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजेटिव आयी है, जिसमें बिलासपुर में एक और दुर्ग के तीन लोग शामिल हैं। वहीं, कोरोना के नये स्ट्रेन के बीच यूनाइडेट किंग्डम से छत्तीसगढ़ लौटे 11 लोगों के मोबाइल बंद पाये गये हैं। ब्रिटेन से छत्तीसगढ़ लौटे लोगों की जानकारी नहीं मिल पाने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। वहीं स्वास्थ्य विभाग ने अब इस मामले में पुलिस से संपर्क कर मदद मांगी है। जिला प्रशासन को भी स्वास्थ्य भी ने 11 यात्रियों के डिटेल सौंपे हैं, ताकि उनकी पड़ताल कर उन्हें तुरंत आइसोलेट किया जा सके। 

इसे भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ साल 2020 में कोरोना से जंग, नक्सली हिंसा, सरकार और राजभवन में टकराव का बना साक्षी 

आपको बता दें कि 9 दिसंबर से 23 दिसंबर के बीच ब्रिटेन से छत्तीसगढ़ कुल 33 लोग लौटे हैं, जिनमें से 11 लोगों के मोबाइल बंद हैं। ये सभी रायपुर के रहने वाले हैं। रायपुर के कटोरा तालाब, श्याम नगर, टैगोर नगर, शंकर नगर सहित कुछ अन्य इलाकों के ये लोग रहने वाले हैं। वहीं, बिलासपुर के बिल्हा में ब्रिटेन से लौटे एक युवक की कोरोना रिपोर्ट पॉजेटिव आयी है, जिसके बाद उसे कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जबकि दुर्ग में भी मिले कोरोना संक्रमितों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

इसे भी पढ़ें: ब्रिटेन से इंदौर लौटा एक और व्यक्ति कोराना वायरस से संक्रमित, परिवार के साथ किया गया होम क्वारंटीन 

दरअसल, ब्रिटेन में कोरोना का नया स्ट्रेन बेहद खतरनाक कहा जा रहा है। नये लक्षण और पुराने वायरस से ज्यादा शक्तिशाली स्ट्रेन से कई लोगों की मौत हो चुकी है और कई देशों में तो लॉकडाउन की स्थिति आ गयी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।