हरियाणा में ब्लैक फंगस के अभी तक 421 मामले, गुरुग्राम में सबसे अधिक 149 मरीज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 24, 2021   09:18
हरियाणा में ब्लैक फंगस के अभी तक 421 मामले, गुरुग्राम में सबसे अधिक 149 मरीज

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि राज्य में ब्लैक फंगस के कुल मामले रविवार को बढ़कर 421 हो गए जिसमें से सबसे अधिक 149 मरीज गुरुग्राम से सामने आये हैं।

चंडीगढ़। हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि राज्य में ब्लैक फंगस के कुल मामले रविवार को बढ़कर 421 हो गए जिसमें से सबसे अधिक 149 मरीज गुरुग्राम से सामने आये हैं। विज ने कहा कि राज्य सरकार ने ब्लैक फंगस के इलाज में इस्तेमाल होने वाले एम्फोटेरिसिन-बी के 12,000 इंजेक्शन की मांग केंद्र सरकार से की है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि वर्तमान में मरीजों के इलाज के लिए एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन की 1,250 शीशियां उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में अब तक ब्लैक फंगस के 421 मामले सामने आए हैं और इन मरीजों का राज्य के विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। विज के हवाले से एक बयान में कहा गया है कि ब्लैक फंगस के सबसे ज्यादा 149 मामले गुरुग्राम से हैं।

इसे भी पढ़ें: शरद पवार के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी के लिये महाराष्ट्र भाजयुमो का पदाधिकारी गिरफ्तार

उन्होंने कहा कि हिसार से 88, फरीदाबाद से 50, रोहतक से 26, सिरसा से 25, करनाल से 17, पानीपत से 15 और अंबाला से 11 ब्लैक फंगस के मामले सामने आए हैं। विज ने कहा कि राज्य के सभी मेडिकल कॉलेजों में इस बीमारी के इलाज के लिए 20-20 बिस्तर आरक्षित किए गए हैं, जहां सभी जिलों के मरीजों को रेफर किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: पी 305 बजरे के 70 कर्मियों की मौत, 16 लापता लोगों के लिए नौसेना का अभियान जारी

राज्य में ब्लैक फंगस या म्यूकोरमाइकोसिस के मामलों की बढ़ती संख्या के बीच मंत्री ने हाल ही में बीमारी के प्रबंधन के संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक बैठक की अध्यक्षता की थी। पिछले सप्ताह राज्य में ब्लैक फंगस को अधिसूचित रोग घोषित किया गया था। डॉक्टरों को अब ऐसे मामलों की रिपोर्ट संबंधित मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) को देनी होगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...