पी 305 बजरे के 70 कर्मियों की मौत, 16 लापता लोगों के लिए नौसेना का अभियान जारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 24, 2021   09:13
पी 305 बजरे के 70 कर्मियों की मौत, 16 लापता लोगों के लिए नौसेना का अभियान जारी

एक अधिकारी ने बताया कि वैसे लापता हुए लोगों की सूची तब काफी छोटी हो जाने की आशंका है जब यह पुष्टि हो जाएगी कि पिछले कुछ दिनों में महाराष्ट्र और गुजरात में तटों के आसपास जो 14 शव मिले हैं, वे बजरा और टगबोट पर सवार लोगों के ही शव हैं।

मुंबई। नौसेना ने कहा है कि रविवार को चार और शव मिलने के साथ ही चक्रवात ताउते के दौरान बजरा पी 305 के डूब जाने की घटना में मरने वालों की संख्या बढ़कर 70 हो गयी और वह इस बजरे एवं टगबोट (खींचने में इस्तेमाल आने वाली नौका) वरप्रदा से लापता समझे जा रहे 16 और व्यक्तियों की तलाश में वह जुटी हुई है। एक अधिकारी ने बताया कि वैसे लापता हुए लोगों की सूची तब काफी छोटी हो जाने की आशंका है जब यह पुष्टि हो जाएगी कि पिछले कुछ दिनों में महाराष्ट्र और गुजरात में तटों के आसपास जो 14 शव मिले हैं, वे बजरा और टगबोट पर सवार लोगों के ही शव हैं। अधिकारी ने कहा, ‘‘अपतटीय क्षेत्र में जो शव मिल मिले हैं, उनकी शिनाख्त होनी अभी बाकी है।’’ उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र के रायगढ़ तट के पास आठ और गुजरात के वलसाड तट पर छह शव मिले हैं।

इसे भी पढ़ें: शरद पवार के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी के लिये महाराष्ट्र भाजयुमो का पदाधिकारी गिरफ्तार

शनिवार को नौसेना के गोताखोरों ने पी 305 बजरे के मलबे का पता लगा लिया। पी 305 बजरा सोमवार को डूब गया था। उसपर 261 लोग सवार थे।उनमें से 70 की मौत हो गयी जबकि अबतक 186 लोग बचा लिये गये हैं तथा पांच का अबतक पता नहीं चला है। उन ग्यारह लोगों का भी कोई अता-पता नहीं चला है, जो टगबोट वरप्रदा पर सवार थे। यह टगबोट भी चक्रवात के दौरान गहरे समुद्र में चला गया था।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के एलएनजेपी और जीटीबी अस्पताल में ब्लैक फंगस 36 नए मामले सामने आए

अबतक इस टग बोट के दो कर्मियों को बचाया जा सका है। अधिकारी ने कहा कि लापता कर्मियों की तलाश रातभर चलेगी तथा नौसेना ने तलाश एवं बचाव अभियान को मजबूती प्रदान करने के लिए विशेष गोताखोर टीमें तैनात की है। रविवार बचाव एवं तलाशी अभियान का सातवां दिन रहा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।