RML अस्पताल में कोरोना वायरस के संपर्क में आने का शक 5 और मरीज भर्ती

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 31, 2020   10:05
RML अस्पताल में कोरोना वायरस के संपर्क में आने का शक 5 और मरीज भर्ती

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि राममनोहर लोहिया अस्पताल के एक पृथक वार्ड में तीन लोगों को निगरानी में रखा गया था और उनकी जांच नकारात्मक रही है। भारत में कोरोना वायरस के पहले मामले की पुष्टि हुई और केरल के त्रिशूर जिले में संक्रमित मरीज को पृथक वार्ड में रखा गया है।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में केंद्र सरकार के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में पांच और लोगों को घातक कोरोना वायरस के संपर्क में आने के संदेह के बाद भर्ती कराया गया है। इनमें चार पुरुष और एक महिला है।  इस वायरस से चीन में 170 लोगों की मौत हो गई है और यह दुनिया भर में फैल गया है। अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि सभी पांच खुद ही आरएमएल अस्पताल आएं हैं। उन्हें सांस लेने में दिक्कत और बुखार है।  उन्होंने बताया कि एक शख्स बुधवार रात आया था जबकि चार अन्य बृहस्पतिवार को आएं हैं। उन्हें पृथक वार्ड में रखा गया है। उनके खून के नमूनों को जांच के लिए भेज दिया गया है। 

इसे भी पढ़ें: वुहान शहर से भारतीयों को लाने का जोखिम उठाएगी भारत की यह विमानन कंपनी

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि राममनोहर लोहिया अस्पताल के एक पृथक वार्ड में तीन लोगों को निगरानी में रखा गया था और उनकी जांच नकारात्मक रही है। भारत में कोरोना वायरस के पहले मामले की पुष्टि हुई और केरल के त्रिशूर जिले में संक्रमित मरीज को  पृथक  वार्ड में रखा गया है। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस हुआ और भी घातक, मरने वालों की संख्या 170 हुई, दिल्ली में भी अलर्ट जारी

एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया कि कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने गुरुवार को देश में तैयारियों के संदर्भ में संबंधित मंत्रालयों - स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, नागर विमानन, सूचना-प्रसारण, श्रम और रोजगार, तथा पोत परिवहन- के साथ समीक्षा बैठक की जिससे विषाणु के प्रसार पर काबू पाने को लेकर चर्चा हुई। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।