उत्तर प्रदेश के अमरोहा हरे चारे में नाइट्रेट पाए जाने से हुई 61 गायों की मौत

cows
ANI
उत्तर प्रदेश के अमरोहा की सांथलपुर गौशाला में हुयी 61 गायों की मौत की प्रारंभिक जांच रिपोर्ट में पता चला है कि हरे चारे (बाजरा) में नाइट्रेट पाए जाने की वजह से इन गायों की मृत्यु हुई है।

बरेली। उत्तर प्रदेश के अमरोहा की सांथलपुर गौशाला में हुयी 61 गायों की मौत की प्रारंभिक जांच रिपोर्ट में पता चला है कि हरे चारे (बाजरा) में नाइट्रेट पाए जाने की वजह से इन गायों की मृत्यु हुई है। भारतीय पशु चिकित्सा एवं अनुसंधान संस्थान (आइवीआरआइ)इज्जतनगर के निदेशक डा त्रिवेणी सिंह ने शनिवार को बताया कि आइवीआरआइ के वैज्ञानिक डाक्टर एजी तैलंग,डाक्टर स्वामीनाथन और डाक्टर आर रघुवरण की टीम ने अमरोहा के गांव साधलपुर स्थित गौशाला का गहन निरीक्षण किया था।

इसे भी पढ़ें: CWG 2022: प्रियंका गोस्वामी का कमाल, 10,000 मीटर पैदल चाल में जीता रजत पदक

उन्होंने बताया कि वैज्ञानिकों ने गायों के दो शवों का पोस्टमार्टम किया। उन्होंने बताया कि गौशाला के गहन निरीक्षण में पता चला कि गायों की नांद में हरा चारा मिला था और जांच में सामने आया है कि गायों ने हरा बाजरा ज्यादा खाया था, जिसमें नाइट्रेट/नाइट्राइट ज्यादा पाई जाती है। उन्होंने बताय कि पेट में अधिक मात्रा में यह पहुंचने के बाद हीमोग्लोबिन में मिलकर नुकसान करता है, इसके बाद हीमोग्लोबिन शरीर के ऊतकों तक आक्सीजन नहीं पहुंचने देता है जिससे वह तड़पने लगती हैं और इससे पशुओं की मौत हो जाती है।

इसे भी पढ़ें: CUET-UG परीक्षा को लेकर राहुल का मोदी सरकार पर हमला, बोले- 4 लोगों की तानाशाही देश को बर्बाद कर रही

वैज्ञानिकों ने बताया कि इन गायों के साथ भी ऐसा ही हुआ था। आइवीआरआइ के प्रधान वैज्ञानिक डा के पी सिंह नेबताया कि गायों की मृत्यु नाइट्रेट/नाइट्राइट की अधिकता वाले चारे को जरूरत से अधिक खाने से हुयी है। उन्होंने बताया कि अब उनके किडनी, यकृत, दिल और फेफड़ों का बिसरा सुरक्षित किया गया है, जिसकी जांच रिपोर्ट आने पर पूरी स्थिति साफ हो जाएगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़