CUET-UG परीक्षा को लेकर राहुल का मोदी सरकार पर हमला, बोले- 4 लोगों की तानाशाही देश को बर्बाद कर रही

Rahul gandhi
ANI
अंकित सिंह । Aug 06, 2022 3:59PM
राहुल गांधी ने साफ तौर पर कहा है कि 4 लोगों की तानाशाही देश को बर्बाद करने की पूरी कोशिश कर रही है। उन्होंने दावा किया कि देश के युवाओं का भविष्य अंधकार में है। इसको लेकर राहुल गांधी ने ट्वीट किया है।

इन दिनों कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ जबरदस्त तरीके से हमलावर हैं। आज एक बार फिर से उन्होंने संयुक्त विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा-पूर्वस्नातक की परीक्षा तकनीकी कारणों से स्थगित किए जाने को लेकर सरकार पर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने साफ तौर पर कहा है कि 4 लोगों की तानाशाही देश को बर्बाद करने की पूरी कोशिश कर रही है। उन्होंने दावा किया कि देश के युवाओं का भविष्य अंधकार में है। इसको लेकर राहुल गांधी ने ट्वीट किया है।

इसे भी पढ़ें: उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए राहुल ने डाला वोट, कांग्रेस नेताओं पर दर्ज FIR को लेकर कही ये बात

अपने ट्वीट में राहुल गांधी ने लिखा कि ‘अमृतकाल’ की नयी एजुकेशन पॉलिसीः Exam से पहले ‘परीक्षा पर चर्चा’, Exam के वक्त ‘No पर्चा, No चर्चा’, Exam के बाद अंधकार में भविष्य, जो #CUET के छात्रों के साथ हो रहा है, वो आज देश के हर युवा की कहानी है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि 4 लोगों की तानाशाही देश को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। आपको बता दे कि सीयूईटी-यूजी की परीक्षा तकनीकी कारणों से लगातार दूसरे दिन शुक्रवार को 50 केंद्रों पर स्थगित कर दी गई। कुछ छात्रों ने यह भी दावा किया कि उन्हें देर रात एनटीए से सूचना प्राप्त हुई है कि शनिवार को होने वाली उनकी परीक्षा “प्रशासनिक और साजो-सामान संबंधी कारणों से स्थगित कर दी गई है।’’ 

इसे भी पढ़ें: हिरासत में प्रियंका-राहुल समेत कई कांग्रेसी सांसद, केंद्र पर लगाए गंभीर आरोप तो भाजपा ने पूछा- क्यों है जांच एजेंसियों का डर ?

समूचे देश में आज पहली पाली में 20 केंद्रों पर परीक्षा और दूसरी पाली में 30 केंद्रों पर परीक्षा स्थगित कर दी गयी। केंद्रीय विश्वविद्यालयों में स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए परीक्षा देश भर के 489 केंद्रों पर आयोजित की जा रही है। इसकी शुरुआत बृहस्पतिवार को हुई। एनटीए के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कुछ केंद्रों पर परेशानी की सूचना आयी, जिसके बाद पर्यवेक्षकों और शहर के समन्वयकों से जमीनी स्तर की रिपोर्ट मांगी गई। अधिकारी ने कहा कि उनकी सिफारिशों के आधार पर परीक्षा स्थगित करने का फैसला किया गया। हालांकि एजेंसी ने यह यह नहीं बताया कि यह परीक्षा कब होगी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़