महाराष्ट्र में 80 घंटे की सरकार बनाने वाले फडणवीस बोले, यह घटना याद रखने लायक नहीं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2020   19:02
महाराष्ट्र में 80 घंटे की सरकार बनाने वाले फडणवीस बोले, यह घटना याद रखने लायक नहीं

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘यदि राज्य में वर्तमान सरकार गिरती है तो शपथ ग्रहण समारोह भोर में नहीं होगा। इस तरह की घटनाओं को याद रखने की जरूरत नहीं है।’’

मुंबई। महाराष्ट्र में ठीक एक साल पहले राकांपा नेता अजित पवार के साथ मिलकर राज्य में 80 घंटे की सरकार बनाने वाले पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने सोमवार को कहा, ‘‘यह घटना याद रखने लायक नहीं है’’, जबकि शिवसेना ने इस ‘‘काले’’ घटनाक्रम को लेकर अपने पूर्व सहयोगी पर निशाना साधा। फडणवीस ने औरंगाबाद में पत्रकारों से कहा कि अगर उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली महा विकास आघाडी (एमवीए) सरकार गिरती है, तो उनकी जगह पर आने वाली सरकार का शपथ समारोह भोर में नहीं होगा जैसा कि एक साल पहले हुआ था। पिछले साल राज्य में अक्टूबर में हुए चुनाव के बाद गैर-भाजपा सरकार बनाने के लिए शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के बीच चल रही बातचीत के बीच फडणवीस और पवार ने राजभवन में भोर में हुए एक समारोह में क्रमश: मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। 

इसे भी पढ़ें: लव जिहाद पर बोले संजय राउत, नीतीश कुमार पहले लाएं कानून फिर हम सोचेंगे 

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘यदि राज्य में वर्तमान सरकार गिरती है तो शपथ ग्रहण समारोह भोर में नहीं होगा। इस तरह की घटनाओं को याद रखने की जरूरत नहीं है।’’ विधान परिषद चुनावों पर पूछे गये एक सवाल के जवाब में फडणवीस ने कहा किकांग्रेस, राकांपा और शिवसेना के एक साथ आने के बावजूद भाजपा अच्छा प्रदर्शन करेगी। मुंबई में शिवसेना ने इस राजनीतिक प्रयोग को लेकर भाजपा पर निशाना साधा। शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र में ऐसी भोर अब कभी नहीं आयेगी और एमवीए अगले विधानसभा चुनाव के बाद भी सत्ता पर काबिज रहेगी। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि यह एक सुबह नहीं थी। अंधेरा था। आप (भाजपा) अगले चार वर्षों में कम से कम सत्ता की किरणों को नहीं देखेंगे। (अगले विधानसभा) चुनाव चार साल बाद होंगे। उसके बाद हम फिर से जीतेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।