‘उत्पीड़न’ बंद होने के बाद प्रधानमंत्री की इच्छानुसार जनसेवा जारी रखूंगा: चिदंबरम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 24, 2019   20:00
‘उत्पीड़न’ बंद होने के बाद प्रधानमंत्री की इच्छानुसार जनसेवा जारी रखूंगा: चिदंबरम

गत 16 सितंबर को चिदंबरम का जन्म दिन था। इसमें चिदंबरम ने कहा, ‘‘प्रिय नरेंद्र मोदी जी, मेरे जन्मदिन पर आपकी तरफ से शुभकामनाएं पाकर सुखद आश्चर्य हुआ।

नयी दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया मामले में गिरफ्तार पूर्व वित्त मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने अपने जन्मदिन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से भेजे गए शुभकामना संदेश का उल्लेख करते हुए मंगलवार को कटाक्ष किया और कहा कि जांच एजेंसियों की ओर से ‘उत्पीड़न’ बंद किये जाने के बाद वह मोदी की इच्छा अनुसार जनता की सेवा जारी रखेंगे।चिदंबरम की तरफ से उनके परिवार ने प्रधानमंत्री के शुभकामना संदेश वाले पत्र को पूर्व वित्त मंत्री के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर शेयर करने के साथ टिप्पणी पोस्ट की। 

गत 16 सितंबर को चिदंबरम का जन्म दिन था। इसमें चिदंबरम ने कहा, ‘‘प्रिय नरेंद्र मोदी जी, मेरे जन्मदिन पर आपकी तरफ से शुभकामनाएं पाकर सुखद आश्चर्य हुआ। यह पत्र मेरे गांव के पते पर भेजा गया था और फिर वहां से मेरे पास आया।’’ उन्होंने तमिल में लिखे प्रधानमंत्री के पत्र के मजमून का उल्लेख किया और तंज भरे लहजे में कहा, ‘‘जैसा कि आपकी इच्छा है, मैं जनता की सेवा करना जारी रखना चाहता हूं। दुर्भाग्यपूर्ण है कि आपकी जांच एजेंसियां मुझे ऐसा करने से रोक रही हैं।’’

इसे भी पढ़ें: जब अधिकारियों ने कोई गलती नहीं की तो फिर चिदंबरम कैसे जिम्मेदार: मनमोहन

चिदंबरम ने कहा, ‘‘वर्तमान में मुझे परेशान किया जा रहा है। यह उत्पीड़न खत्म होने के बाद मैं अपने लोगों के बीच वापस लौटूंगा। आप और मैं लोगों की सेवा के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’ गौरतलब है कि आईएनएक्स मीडिया मामले में पी चिदंबरम को पिछले दिनों अदालत ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। इन दिनों वह तिहाड़ में बंद हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।