बोडोलैंड की मांग पर लगा पूर्ण विराम, गृह मंत्री और NDFB के शीर्ष नेताओं की मौजूदगी में हुआ समझौता

बोडोलैंड की मांग पर लगा पूर्ण विराम, गृह मंत्री और NDFB के शीर्ष नेताओं की मौजूदगी में हुआ समझौता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में असम सरकार के साथ ये संगठन समझौता किया गया। जिसके तहत अब बोडोलैंड की मांग नहीं की जाएगी।

पूर्वोत्तर में एक अलग राज्य की लंबे समय से जारी मांग पर अब पूर्णविराम लग गया है। असम में पिछले लंबे समय से अलग बोडोलैंड की मांग करने वाले गुटों नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ़ बोरोलैंड, ऑल बोडो स्टूडेंट यूनियन और केन्द्र सरकार के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर हुए हैं। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में असम सरकार के साथ ये संगठन समझौता किया गया। जिसके तहत अब बोडोलैंड की मांग नहीं की जाएगी।

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि आगामी 30 जनवरी को 130 हथियारों के साथ 1550 कैडर आत्मसमर्पण करेंगे। शाह ने कहा कि गृह मंत्री के रूप में, मैं सभी प्रतिनिधियों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि सभी वादें समयबद्ध तरीके से पूरे होंगे।

बता दें कि इस बड़े समझौते के एक दिन पहले असम बम धमाकों से दहल गया था। गणतंत्र दिवस के अवसर पर असम के डिब्रूगढ़, चराईदेव और तिनसुकिया में 5 धमाके हुए। हालांकि, इन धमाकों में किसी तरह के बड़े नुकसान की खबर नहीं हुई थी। इन धमाकों की जिम्मेदारी उल्फा (I) ने ली थी, जिसके कुछ सदस्यों ने बीते दिनों आत्मसमर्पण किया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।