कथित पत्रकार प्यारे मियां के इंदौर स्थित ऐशगाह को प्रशासन ने गिराया,मकान में मिला आपत्तिजनक सामान

कथित पत्रकार प्यारे मियां के इंदौर स्थित ऐशगाह को प्रशासन ने गिराया,मकान में मिला आपत्तिजनक सामान

नाबालिग लड़कियों को बंगले पर लाने के बाद उन पर दबाव बनाकर उनसे दुष्कर्म करते थे। बालिकाओं के बयानों के बाद भोपाल पुलिस ने इंदौर पुलिस को प्यारे मियां के खिलाफ तीन नए प्रकरण दर्ज करवाने के लिए जांच डायरी इंदौर भेजी थी। इतना ही नहीं पुलिस भोपाल से पीड़ित लड़कियों को इस बंगले में लेकर पहुंची थी।

इंदौर। बच्चियों के यौन शोषण के आरोपी कथित पत्रकार प्यारे मियां के इंदौर स्थित लालाराम नगर के मकान को पुलिस और नगर निगम की टीम ने शुक्रवार को जमींदोज कर दिया। निगम के कर्मचारी जब सामान हटाने के लिए कमरों में पहुंचे, तो वहां का नजारा देखकर दंग रह गये। यहां पर बार में एक से बढ़कर एक मंहगी विदेशी शराब सजी हुई थीं। इसके अलावा आलमारी से आपत्तिजनक वस्तुएं भी मिलीं। टीम जब बंगले की छत पर पहुंची तो यहां पर लग्जरी पेंट हाउस बना था, जहां पर ऐशो आराम की सभी सामान मौजूद था। पुलिस ने सभी वस्तुओं को बाहर निकालकर घर को जेसीबी और पोकलेन की मदद से अवैध निर्माण को ध्वस्त करवा दिया।

 

इसे भी पढ़ें: इंदौर के एमवाय अस्पताल से चोरी बच्चा आरोपी ने थाने में छोड़ा, पुलिस किया था इनाम घोषित

इंदौर नगर निगम उपायुक्त लता अग्रवाल ने बताया कि प्यारे मियां के लालाराम नगर स्थित आलीशान मकान को तोड़ा गया है। इस तीन मंजिला मकान की छत पर प्यारे ने पेंट हाउस बना रखा था, जिसमें आलीशान बीयर बार था। महंगी विदेशी शराब की कई बोतलों के साथ ही आपत्तिजनक सामग्री, शक्तिवर्धक दवाएं और सांभर के सींग  भी यहां से मिले हैं।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के गृहमंत्री का आरोप कांग्रेस करती है तुष्टिकरण की राजनीति

निगम के जोनल अधिकारी नागेंद्र सिंह भदौरिया ने बताया कि प्यारे का मकान नक्शे के विपरीत बना हुआ था। यहां से एक तलवार भी मिली है। पुलिस को पता चला था कि पलासिया के लालाराम नगर स्थित अपने बंगले पर प्यारे मियां कई नाबालिग लड़कियों को भोपाल से लेकर आ चुका है। नाबालिग लड़कियों को बंगले पर लाने के बाद उन पर दबाव बनाकर उनसे दुष्कर्म करते थे। बालिकाओं के बयानों के बाद भोपाल पुलिस ने इंदौर पुलिस को प्यारे मियां के खिलाफ तीन नए प्रकरण दर्ज करवाने के लिए जांच डायरी इंदौर भेजी थी। इतना ही नहीं पुलिस भोपाल से पीड़ित लड़कियों को इस बंगले में लेकर पहुंची थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept