• विजय दिवस के मौके पर पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सोमवार को करगिल विजय दिवस पर करगिल युद्ध के शहीदों को श्रद्धांजलि दी और युवाओं से राष्ट्र सेवा के लिये सशस्त्र बलों में शामिल होने की अपील की।

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सोमवार को करगिल विजय दिवस पर करगिल युद्ध के शहीदों को श्रद्धांजलि दी और युवाओं से राष्ट्र सेवा के लिये सशस्त्र बलों में शामिल होने की अपील की। सरकारी बयान में कहा गया है कि करगिल विजय दिवस की 22 वीं सालगिरह पर मुख्यमंत्री ने यहां युद्ध स्मारक पर पुष्प चक्र अर्पित किये। उन्होंने पंजाब के उन 54 बहादुर सपूतों को सैल्यूट किया जिन्होंने करगिल अभियान में अपनी शहादत दी थी।

इसे भी पढ़ें: स्पा को फिर से खोलने के लिए संचालकों को शर्तों को पूरा करना होगा : अदालत

करगिल विजय दिवस के मौके पर बलिदानों को याद करते हुये सिंह ने उन बहादुर सैनिकों को श्रद्धांजलि दी जिन्होंने जुलाई 1999 में करगिल, द्रास एवं बटालिक सेक्टर में घुसपैठ करने वाली पाकिस्तानी सेना को मुंहतोड़ जवाब देते हुये अपने प्राण न्यौछावर कर दिये थे। बयान में कहा गया है कि युवा एनसीसी कैडेटों एवं सशस्त्र बलों में शामिल होने के लिये तैयारी कराने वाले माई भागो संस्थान की महिला कैडेटों के साथ संक्षिप्त बातचीत में सिंह ने उनसे देश की एकता और अखंडता को अक्षुण रखने के लिये सशस्त्र बलों में शामिल होने की अपील की।

इसे भी पढ़ें: अविनाश राय खन्ना बोले, हमारा मुकाबला ऐसे राजनीतिक दल से जिसके पास न ही कोई नेता और न ही कोई नीति है

मुख्यमंत्री ने कहा कि युवाओं में देशभक्ति और राष्ट्रवाद की भावना पैदा करने के लिए वे एक आदर्श भी बन सकते हैं। गौरतलब है कि 1999 में भारतीय सशस्त्र बलों ने अपने शौर्य का परिचय देते हुये करगिल की पहाड़ी की चोटी पर कब्जा करने के पाकिस्तान के मंसूबे को विफल कर दिया था। इसे ‘आपरेशन विजय’ नाम दिया गया था।