• अमरनाथ यात्रा 2021: सोमवार से ऑनलाइन आरती, भक्तों को मिलेंगे लाइव दर्शन; अजमेर शरीफ दरगाह और पुष्कर मंदिर पहुंचे श्रद्धालु

इस साल कोरोना महामारी के कारण अमरनाथ यात्रा रद्द कर दी गई है, इसलिए जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने सोमवार से दुनिया भर के भक्तों के लिए लाइव दर्शन की व्यवस्था की है।

राजस्थान में कोरोना मामलों में कमी होने पर पुष्कर में सोमवार से मंदिर के द्वार श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं। दर्शन करने आए एक व्यक्ति ने बताया कि, "आज 5 बजे से मंदिर के द्वार खुले हैं, हम सुबह 4:45 बजे से यहां लाइन में लग गए थे। दर्शन करने के बाद हमें बहुत आनंद मिला।" बता दें कि मंदिर खुलने के बाद पुष्कर के ब्रह्मा मंदिर में सुबह की आरती की गई। मंदिर सुबह 5 बजे से शाम 4 बजे तक खुले रहेंगे। 

श्रद्धालु अजमेर शरीफ दरगाह पर नमाज अदा करने पहुंचे

राज्य सरकार द्वारा सोमवार से धार्मिक स्थलों को फिर से खोलने की अनुमति मिलने के बाद श्रद्धालु अजमेर शरीफ दरगाह पर नमाज अदा करने भी पहुंचे।

इसे भी पढ़ें: गाजियाबाद में बड़ी घटना! एक ही परिवार के 3 लोगों की गोली मारकर हत्या

अमरनाथ में सोमवार की आरती

इस साल कोरोना महामारी के कारण अमरनाथ यात्रा रद्द कर दी गई है, इसलिए जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने सोमवार से दुनिया भर के भक्तों के लिए लाइव दर्शन की व्यवस्था की है। इस आरती में जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा भी मौजुद रहे। इस साल अमरनाथ गुफा मंदिर में सभी धार्मिक अनुष्ठान लाइव किए जाएंगे। बता दें कि उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने 21 जून को कहा था कि इस साल यात्रा को प्रतीकात्मक रखा जाएगा। 28 जून से 22 अगस्त तक आधे घंटे तक ऑनलाइन आरती होगी। सुबह 6 बजे से 6.30 बजे तक आरती की जाएगी, जबकि शाम को 5 बजे से 5.30 बजे तक आरती की जाएगी।

इसे भी पढ़ें: जम्मू में ड्रोन हमला: स्थानीय लोगों ने कहा, धमाके की जोरदार आवाज से इलाका थर्राया

इसका सीधा प्रसारण श्री अमरनाथ जी की वेबसाइट, एप और एमएच1 प्राइम पर किया जाएगा। सिन्हा ने ट्वीट कर कहा था कि, "कोविड -19 महामारी के मद्देनजर श्री अमरनाथजी यात्रा रद्द कर दी गई। श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड के सदस्यों के साथ गहन चर्चा के बाद यह निर्णय लिया गया है कि यह यात्रा केवल प्रतीकात्मक होगी। गौरतलब है कि, 1 अप्रैल से शुरू हुई यात्रा के लिए पंजीकरण को 22 अप्रैल से अस्थायी रूप से COVID-19 स्थिति के कारण निलंबित कर दिया गया था। देश में फैले कोरोनावायरस महामारी के मद्देनजर पिछले साल भी वार्षिक तीर्थयात्रा रद्द कर दी गई थी