तीन तलाक बिल पास होने पर बोले अमित शाह, पुरानी कुप्रथा से मुक्ति मिलेगी

amit-shah-hails-passage-of-triple-talaq-bill-by-parliament
गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मैं प्रतिबद्धताओं को पूरा करने और तीन तलाक पर कानून लाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बधाई देता हूं जो मुस्लिम महिलाओं को इस कुप्रथा से आजादी दिलाएगी।

नयी दिल्ली। गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को संसद में तीन तलाक विधेयक पारित होने की प्रशंसा की और कहा कि विधेयक से मुस्लिम महिलाओं को पुरानी कुप्रथा से मुक्ति मिलेगी। उन्होंने राज्यसभा में विधेयक पारित होने को भारत के लोकतंत्र के लिए महान दिन करार दिया। उन्होंने ट्वीट किया कि मैं प्रतिबद्धताओं को पूरा करने और तीन तलाक पर कानून लाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बधाई देता हूं जो मुस्लिम महिलाओं को इस कुप्रथा से आजादी दिलाएगी। इस ऐतिहासिक विधेयक का समर्थन करने के लिए मैं सभी दलों को धन्यवाद देता हूं। उन्होंने बयान जारी कर मुस्लिम महिलाओं को बधाई देते हुए कहा कि इस विधेयक के पारित होने के बाद मैं देश भर की मुस्लिम बहनों को बधाई देता हूं कि उन्हें तीन तलाक के अभिशाप से मुक्ति मिल गई है। इस विधेयक से मुस्लिम महिलाओं को पुरानी कुप्रथा से मुक्ति मिलेगी।

इसे भी पढ़ें: तीन तलाक विधेयक पर वोटिंग के दौरान गैरहाजिर रहे विपक्ष के 20 सांसद

गृह मंत्री ने कहा कि अब के बाद मुस्लिम महिलाओं के लिए संभावनाओं के असीमित द्वार खुल जाएंगे और ‘नये भारत’ के निर्माण में वे प्रभावी भूमिका निभा सकेंगी। उन्होंने कहा, ‘‘आज का दिन भारत के लोकतंत्र के लिए बड़ा दिन है। मैं उन सभी पार्टियों को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने इस ऐतिहासिक विधेयक का समर्थन किया।’’ कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने विधेयक पारित होने पर कहा कि मुस्लिम महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए आज ऐतिहासिक दिन है जब लोकसभा के बाद राज्यसभा ने भी तीन तलाक कानून को मंजूरी दे दी है। उन्होंने ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुस्लिम महिलाओं से किया वादा निभाया और उनको तलाक-तलाक-तलाक से मुक्ति दिलाई।

इसे भी पढ़ें: असदुद्दीन ओवैसी ने तीन तलाक बिल को मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ बताया

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने विधेयक को ऐतिहासिक करार दिया। उन्होंने कहा कि यह अवधारणा की राज्यसभा इसे पारित नहीं करेगा, आज टूट गया। यह महत्वपूर्ण विधेयक है जो पिछले दो वर्षों से लटका हुआ था लेकिन आज मुस्लिम महिलाओं को अंतत: न्याय मिल गया। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने ट्वीट किया कि मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक, 2019 का संसद से पारित होना संविधान, लोकतंत्र एवं संसदीय इतिहास का स्वर्णिम दिन है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़