देवेंद्र फडणवीस और कैलाश चौधरी से मुलाकात के बाद अन्ना ने बदला फैसला, अब नहीं करेंगे आंदोलन

देवेंद्र फडणवीस और कैलाश चौधरी से मुलाकात के बाद अन्ना ने बदला फैसला, अब नहीं करेंगे आंदोलन

खबरों के अनुसार फडणवीस और चौधरी ने अन्ना को अनशन पर बैठने से रोकने के लिए बात की। जिसके बाद केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि अन्ना को हमने आंदोलन ना करने की विनती की, जिसे अन्ना ने स्वीकार कर लिया है।

समाजसेवी अन्ना हजारे अब 30 जनवरी से महाराष्ट्र के रालेगण सिद्धि में अनिश्चितकालीन अनशन पर नहीं बैठेंगे। बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस और केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी अन्ना को मनाने में सफल रहे। खबरों के अनुसार फडणवीस और चौधरी ने अन्ना को अनशन पर बैठने से रोकने के लिए बात की। जिसके बाद केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि अन्ना को हमने आंदोलन ना करने की विनती की, जिसे अन्ना ने स्वीकार कर लिया है।

इसे भी पढ़ें: सत्ता में आए तो पहले 100 दिन लोगों की समस्याओं के हल के लिए:स्टालिन

बता दें कि सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने इससे पहले घोषणा की थी कि वह केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ शनिवार को महाराष्ट्र में अपने गांव रालेगन सिद्धि में अनिश्चितकालीन अनशन शुरू करेंगे। उन्होंने एक बयान में कहा, मैं कृषि क्षेत्र में सुधारों की मांग करता रहा हूं, लेकिन केंद्र सही फैसले लेते नहीं दिख रहाहै।’’ हजारे ने कहा, ‘‘किसानों को लेकर केंद्र कतई संवेदनशील नहीं है, इसीलिए मैं 30 जनवरी से अपने गांव में अनिश्चितकालीन अनशन शुरू कर रहा हूं।’’ हजारे (83) ने अपने समर्थकों से अपील भी की कि वे कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए अहमदनगर जिले में स्थित उनके गांव में एकत्र नहीं हों।’’ उल्लेखनीय है कि केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ हजारों किसान दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।