लाल किले से प्राचीन वस्तुएं गायब, झांकियां क्षतिग्रस्त मिलीं: प्रह्लाद पटेल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 29, 2021   10:03
लाल किले से प्राचीन वस्तुएं गायब, झांकियां क्षतिग्रस्त मिलीं: प्रह्लाद पटेल

केन्द्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल ने कहा कि गणतंत्र दिवस समारोह के बाद सभी झांकियों को लाल किले के परिसर में रखा जाता है। सात से 15 दिन तक लोग इन्हें देखने के लिये आते हैं।

नयी दिल्ली। केन्द्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल ने बृहस्पतिवार को कहा कि लाल किले से कुछ प्राचीन वस्तुएं गायब हैं और गणतंत्र दिवस पर दिखाई गईं झांकियां क्षतिग्रस्त मिली हैं। गौरतलब है कि दो दिन पहले गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान किसानों का एक समूह लालकिले में दाखिल हो गया था। पटेल ने संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा कि गणतंत्र दिवस समारोह के बाद सभी झांकियों को लाल किले के परिसर में रखा जाता है। सात से 15 दिन तक लोग इन्हें देखने के लिये आते हैं। जब मैं वहां पहुंचा तो मैंने देखा कि वे क्षतिग्रस्त हैं। इनमें संस्कृति मंत्रालय की झांकी और राम मंदिर की झांकी शामिल है। वास्तव में सभी झांकियां क्षतिग्रस्त थीं। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस सांसद शशि थरूर, एंकर राजदीप सरदेसाई समेत कई लोगों के खिलाफ मामला दर्ज 

उन्होंने कहा कि हिंसा में हुए वित्तीय नुकसान का आकलन किया जा रहा है लेकिन वह बहुमूल्य प्राचीन वस्तुओं को खोने के लेकर चिंतित हैं। मंत्री ने कहा, प्राचीन वस्तुएं बहुमूल्य हैं। हम वित्तीय नुकसान का आकलन तो कर सकते हैं लेकिन प्राचीन वस्तुओं को खोने से हुए नुकसान का अंदाजा कैसे लगाया जाए? यह बड़ा नुकसान है। इससे पहले, पटेल ने इस मामले में जांच का आदेश देते हुए ‘एएसआई’ से रिपोर्ट मांगी थी। 

इसे भी पढ़ें: गाजियाबाद प्रशासन ने किसानों से UP गेट खाली करने को कहा, राकेश टिकैत बोले- वह आत्महत्या कर लेंगे... 

उन्होंने कहा कि बाहर की लाइटें नष्ट कर दी गई हैं। सूचना केन्द्र का पहला तल क्षतिग्रस्त है। जिस स्थान पर हमेशा झंडा लगा रहता है, वहां पीतल की प्राचीन वस्तुएं रखी रहती हैं। बेहद सुरक्षित तथा महत्वपूर्ण मानी जाने वाली इस जगह पर से दो वस्तुएं गायब हैं। उन्होंने कहा कि दोषियों के खिलाफ प्राचीन स्मारक एवं पुरातत्व स्थल तथा अवशेष अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।