उत्तराखंड की सियासत में लगा ग्लैमर का तड़का, जानें कौन हैं हरक सिंह रावत की बहू अनुकृति गुसाईं?

उत्तराखंड की सियासत में लगा ग्लैमर का तड़का, जानें कौन हैं हरक सिंह रावत की बहू अनुकृति गुसाईं?

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा के पूर्व नेता हरक सिंह रावत को पार्टी से निष्कासित किए जाने के एक दिन बाद, उनकी बहू अनुकृति गुसाईं ने लैंड्सडाउन सीट के लिए दावा पेश किया है। अनुकृति ने कांग्रेस के साथ अपनी किस्मत आजमाई करेंगी।

उत्तराखंड के पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत कांग्रेस आलाकमान की हरी झंडी मिलने के बाद शुक्रवार को फिर से कांग्रेस में शामिल हो गए। गत 16 जनवरी को उन्हें भाजपा से निष्कासित किया गया था। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा के पूर्व नेता हरक सिंह रावत को पार्टी से निष्कासित किए जाने के एक दिन बाद, उनकी बहू अनुकृति गुसाईं ने लैंड्सडाउन सीट के लिए दावा पेश किया है। अनुकृति ने कांग्रेस के साथ अपनी किस्मत आजमाई करेंगी। अनुकृति ने 2018 में अपना ध्यान समाज सेवा की ओर लगाया। लैंसडाउन के कल्याण के लिए अपने सामाजिक कार्यों के कारण अनुकृति को लैंसडाउन संसद सीट के लिए एक मजबूत दावेदार के रूप में भी देखा जा रहा है। हालांकि, यह नहीं कहा जा सकता कि उन्हें टिकट मिलेगा या नहीं। 

 

इसे भी पढ़ें: केजरीवाल की लोगों से अपील, चुनावी राज्यों को वीडियो बनाकर बताएं दिल्ली के अच्छे काम

 

कौन हैं अनुकृति गुसाईं?

25 मार्च 1994 को जन्मीं अनुकृति गुसाईं एक मॉडल और टीवी प्रस्तोता हैं, और पूर्व मिस इंडिया भी रह चुकी हैं। वह मिस इंडिया प्रतियोगिता में 5वें स्थान पर आई थीं। मॉडल से राजनेता बनीं उन्होंने 2013 में ब्राइड ऑफ द वर्ल्ड इंडिया भी जीता था। अनुकृति ने 2014 में मिस इंडिया पैसिफिक वर्ल्ड और 2017 में मिस इंडिया ग्रैंड इंटरनेशनल में भारत का प्रतिनिधित्व किया। हालांकि, उन्होंने 2018 से अपना ध्यान पूरी तरह से सामाजिक कार्यों में स्थानांतरित कर दिया और सामाजिक कार्य करती रहे हैं।

 

इसे भी पढ़ें: मुंबई की इमारत में आग की घटना में जख्मी एक और व्यक्ति ने तोड़ा दम, मृतक संख्या सात हुई

 

राजनीतिक सफर

2018 में राजनीतिक नेता हरक सिंह रावत के बेटे तुषित रावत से शादी करने के बाद, उन्होंने राजनीति की ओर कदम बढ़ाया, लेकिन तुरंत मुख्यधारा में नहीं आईं। उन्होंने अपने गृहनगर, उत्तराखंड के एक शहर लैंसडाउन के सुधार के लिए काम करना शुरू किया और वहां अपनी जड़ें मजबूत करने का फैसला किया। वह अपना महिला एवं बाल कल्याण संगठन संचालित करती हैं। उनके पति, तुषित शंकरपुर में दून इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस संचालित करते हैं और कथित तौर पर राजनीति में उनकी कोई दिलचस्पी नहीं है। अनुकृति अपने ससुर की तरह ही कांग्रेस में शामिल हुई हैं। वह लैंसडाउन निर्वाचन क्षेत्र से विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवार बनने की उम्मीद कर रही है और अपनी स्थिति को मजबूत करने और जनता का समर्थन हासिल करने की दिशा में काम करने जा रही है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।