सेना सीमा संभाल रही है और प्रधान सेवक बूथ संभाल रहे हैं: कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 28, 2019   15:48
सेना सीमा संभाल रही है और प्रधान सेवक बूथ संभाल रहे हैं: कांग्रेस

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि सेनाएँ सीमा संभाल रही है, और प्रधान सेवक बूथ संभाल रहे है!

नयी दिल्ली। भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संवाद को लेकर कांग्रेस ने बृहस्पतिवार को उन पर निशाना साधा और तंज कसते हुए कहा कि सेना देश की सीमा संभाल रही है और ‘प्रधान सेवक’ बूथ संभाल रहे हैं। पार्टी ने यह भी आरोप लगाया कि जब देश वायुसेना के पायलट विंग कमांडर अभिनन्दन की वापसी के लिए व्याकुल है तो उस वक्त प्रधानमंत्री सत्ता में बने रहने के लिए व्याकुल हैं।

इसे भी पढ़ें: येदियुरप्पा के बयान पर बरसी कांग्रेस, पूछा- यह देशप्रेम है या मूर्खतापूर्ण राजनीति है?

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, ‘सेनाएँ सीमा संभाल रही है, और प्रधान सेवक बूथ संभाल रहे है! ये हैं सत्ता के सिपाही!’ उन्होंने यह भी आरोप लगाया,  देश जाबांज़, विंग कमांडर अभिन्दन की अविलंब सुरक्षित वापसी को व्याकुल है और प्रधान सेवक सत्ता वापसी के लिए। सुरजेवाला ने कहा,  कांग्रेस ने आज बृहस्पतिवार को होने वाली महत्वपूर्ण सीडब्ल्यूसी की बैठक व रैली को रद्द कर दिया। देश और सब दल सशस्त्र सेनाओं के साथ हैं, पर मोदीजी वीडियो कांफ्रेंसिंग का रिकॉर्ड बनाने को बेचैन हैं। 

इसे भी पढ़ें: 2019 का आम चुनाव भारत की आकांक्षाओं को पूरा करने का जनमत होगा: मोदी

दरअसल, मोदी ने ‘मेरा बूथ सबसे मजबूत’ अभियान के तहत बृहस्पतिवार को नमो एप के जरिये देश भर के पार्टी कार्यकर्ताओं से संवाद किया। गौरतलब है कि पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर के पुंछ और नौशेरा सेक्टर में भारतीय हवाई क्षेत्र का उल्लंघन किया लेकिन भारतीय विमानों ने उन्हें खदेड़ दिया। पाकिस्तानी दुस्साहस का जवाब देने के दौरान उसके एक विमान को मार गिराया गया, लेकिन वायुसेना के विंग कमांडर अभिनन्दन पाकिस्तान द्वारा हिरासत में ले लिए गए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।