गुरुवार को हिंसा के विरोध में बजरंग दल का देशव्यापी प्रदर्शन, “इस्लामिक जिहादी कट्टरपंथियों” के खिलाफ उठाएगा आवाज

bajrang dal
ANI
अंकित सिंह । Jun 15, 2022 3:12PM
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से संबद्ध संगठन ने कहा कि उसकी युवा शाखा के कार्यकर्ता बृहस्पतिवार को देशभर के जिला प्रशासन मुख्यालय में ‘‘इस्लामिक जिहादी कट्टरपंथियों द्वारा बढ़ती चरमपंथी घटनाओं’’ के खिलाफ धरना देंगे और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को एक ज्ञापन सौंपेंगे।

पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ कथित टिप्पणी को लेकर देशभर में जो हिंसा और पथराव की खबर आई, वह वाकई चिंताजनक है। शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद दिल्ली से लेकर कोलकाता तक हिंसा की खबरें रहीं। रांची में तो 2 लोगों की मृत्यु हुई। अब इसी हिंसा के खिलाफ बजरंग दल देश के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन करेगा। बजरंग दल की ओर से इस बात का ऐलान किया गया है कि गुरुवार को उसके कार्यकर्ता देशभर में हुई हिंसा के विरोध में देशव्यापी प्रदर्शन करेंगे। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से संबद्ध संगठन ने कहा कि उसकी युवा शाखा के कार्यकर्ता बृहस्पतिवार को देशभर के जिला प्रशासन मुख्यालय में ‘‘इस्लामिक जिहादी कट्टरपंथियों द्वारा बढ़ती चरमपंथी घटनाओं’’ के खिलाफ धरना देंगे और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को एक ज्ञापन सौंपेंगे। 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश सरकार पुलिस और संबंधित सेवाओं में भर्ती के लिए अग्निवीरों को प्राथमिकता देगी : योगी आदित्यनाथ

आपको बता दें कि भाजपा के निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा और निष्कासित नेता नवीन जिंदल द्वारा पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ कथित तौर पर टिप्पणी की गई थी। इसी को लेकर 10 जून को मुस्लिम समाज की ओर से देश भर के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन किया गया था। विवाद बढ़ने के बाद भाजपा ने दोनों नेताओं को पार्टी से निकाल दिया था। विश्व हिंदू परिषद के महासचिव मिलिंद परांडे ने कहा कि देश में इस्लामिक जिहादी कट्टरपंथियों द्वारा बढ़ती चरमपंथी घटनाओं के खिलाफ विहिप की युवा शाखा बजरंग दल अब सड़कों पर उतरेगी। परांडे के नपताबिक जिहादी कट्टरपंथियों द्वारा हिंदुओं पर लगातार हो रहे हमलों के खिलाफ बजरंग दल के कार्यकर्ता बृहस्पतिवार को सभी जिला मुख्यालयों पर धरना देंगे और राष्ट्रपति को एक ज्ञापन सौंपेंगे। 

इसे भी पढ़ें: बुलडोजर की कार्रवाई पर भड़के ओवैसी ने दी योगी को चुनौती, कहा- हिम्मत है तो अजय मिश्रा टेनी का घर तोड़िए

परांडे ने मांग की कि उन मस्जिदों पर कड़ी निगरानी रखी जाए, जहां से भीड़ कथित तौर पर जुमे की नमाज के बाद निकली थी और 10 जून को देश के कुछ हिस्सों में इन्होंने हिंसा की थी। उन्होंने कहा, ‘‘जिन लोगों ने भीड़ को उकसाया, उन्हें तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। जिन्हें धमकी दी गई है, उनकी सुरक्षा सुनिश्चित की जानी चाहिए। धमकी देने वालों को गिरफ्तार किया जाए और उनके खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया जाए।’’ विश्व हिंदू परिषद (विहिप) की दिल्ली इकाई ने देश के कई हिस्सों में 10 जून को हुई हिंसा के विरोध में शहर के लोगों से मंगलवार को मंदिरों में एकत्र होने और हनुमान चालीसा के सामूहिक पाठ में भाग लेने का सोमवार को आह्वान किया था।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़