पंजाब में जुगाड़ रेहड़ी पर लगी रोक, विपक्षी दलों ने भगवंत मान सरकार पर साधा निशाना, कही यह बात

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 23, 2022   20:57
पंजाब में जुगाड़ रेहड़ी पर लगी रोक, विपक्षी दलों ने भगवंत मान सरकार पर साधा निशाना, कही यह बात
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

पंजाब के विपक्षी दलों ने पुलिस के इस कदम के बाद आम आदमी पार्टी के नेतृत्व वाली राज्य सरकार पर निशाना साधा और कहा कि इस तरह का प्रतिबंध हजारों लोगों को बेरोजगार कर देगा। जुगाड़ रेहड़ी चलाने वाले लोगों ने भी राज्य सरकार के इस निर्णय की आलोचना की और सवाल उठाया कि अब वे किस तरह अपनी आजीविका कमाएंगे।

चंडीगढ़। पंजाब पुलिस ने दुर्घटना का कारण बनने का हवाला देते हुए जुगाड़ रेहड़ी पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस तरह की रेहड़ी को बेहद पुरानी हो चुकी मोटरसाइकिल से लकड़ी की ठेली को जोड़कर बनाया जाता है, जिसका उपयोग अक्सर सामान की ढुलाई के लिए किया जाता है। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (यातायात) द्वारा 18 अप्रैल को लिखे गए पत्र में राज्य के पुलिस आयुक्तों और जिला पुलिस प्रमुखों को इस तरह की जुगाड़ रेहड़ी के खिलाफ विशेष अभियान चलाने का निर्देश दिया गया है।  

इसे भी पढ़ें: हार हुई, पर रार नहीं गई: बिना नाम लिए सिद्धू का चन्नी पर निशाना- माफिया राज के कारण हारी कांग्रेस 

पंजाब के विपक्षी दलों ने पुलिस के इस कदम के बाद आम आदमी पार्टी के नेतृत्व वाली राज्य सरकार पर निशाना साधा और कहा कि इस तरह का प्रतिबंध हजारों लोगों को बेरोजगार कर देगा। जुगाड़ रेहड़ी चलाने वाले लोगों ने भी राज्य सरकार के इस निर्णय की आलोचना की और सवाल उठाया कि अब वे किस तरह अपनी आजीविका कमाएंगे। शिरोमणि अकाली दल के वरिष्ठ उपाध्यक्ष दलजीत सिंह चीमा ने शनिवार को जारी एक बयान में कहा कि यह प्रतिबंध हजारों लोगों के लिए एक झटका साबित हुआ है। 

इसे भी पढ़ें: सिद्धू ने भगवंत मान को बताया ‘रबर का गुड्डा’, कहा- दिल्ली से चल रही पंजाब की सरकार 

चीमा ने कहा कि बिना जमीनी हालत का अध्ययन किए केवल आदेश जारी कर देना एक अच्छी शासन व्यवस्था का परिचायक नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रतिबंध का आदेश जारी करने से पहले भगवंत मान सरकार को ऐसे लोगों की आजीविका के वैकल्पिक अवसरों के बारे में निर्णय लेना चाहिए था। कांग्रेस के विधायक सुखपाल खैरा ने राज्य सरकार के इस फैसले को बुरा निर्णय करार देते हुए दावा किया कि इससे करीब एक लाख परिवारों के लिए रोजी-रोटी का संकट खड़ा होगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।