कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धारमैया ने इन संगठनों पर समाज में शांति भंग करने का लगाया आरोप

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 22, 2022   18:11
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धारमैया ने इन संगठनों पर समाज में शांति भंग करने का लगाया आरोप
Google common license

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धारमैया ने कहा कि अगर हिम्मत है तो एसडीपीआई, एआईएमआईएम, आरएसएस, बजरंग दल पर प्रतिबंध लगाएं।सिद्धारमैया ने राज्य में कुछ संगठनों पर प्रतिबंध लगाने पर सरकार के विचार के बारे में एक सवाल के जवाब में पत्रकारों से कहा, किसने मना किया? अगर हिम्मत है तो कीजिए।

हुब्बाली (कर्नाटक)। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धारमैया ने सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई), ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम), राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और बजरंग दल जैसे संगठनों पर समाज में शांति भंग करने का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को कर्नाटक की भाजपा सरकार को चुनौती देते हुए कहा कि हिम्मत है तो इन पर प्रतिबंध लगाए। राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता ने सरकार को शांति बनाए रखने के लिए आवश्यक चीजों को करने की सलाह दी और यह सुनिश्चित करने को कहा कि यह (शांति) भंग न हो। सिद्धारमैया ने राज्य में कुछ संगठनों पर प्रतिबंध लगाने पर सरकार के विचार के बारे में एक सवाल के जवाब में पत्रकारों से कहा, किसने मना किया? अगर हिम्मत है तो कीजिए।

इसे भी पढ़ें: गोरखपुर के मंदिर में लाउडस्पीकर की आवाज हुई कम तो श्रीकृष्ण जन्मभूमि से हटा स्पीकर, मंदिर प्रशासन ने खुद उठाया यह कदम

समाज में शांति भंग करने वाले संगठनों एसडीपीआई, एआईएमआईएम, आरएसएस, बजरंग दल, पर (प्रतिबंध लगाओ) हमें कोई आपत्ति नहीं है। इससे पहले, कर्नाटक के गृह मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र ने शुक्रवार को कहा कि सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर हुब्बाली में हालिया हिंसा के पीछे कुछ संगठनों सहित कई “अज्ञात शक्तियों” का हाथ था और उन्हें न्याय के दायरे में लाया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ऐसे संगठनों की गतिविधियों को नियंत्रित करने पर विचार कर रही है, जिसमें उन पर प्रतिबंध लगाना भी शामिल है। हुब्बाली में हाल के दिनों में हुई हिंसा की निंदा करते हुए, पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा कि दोषियों को दंडित किया जाना चाहिए और निर्दोषों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जानी चाहिए। उन्होंने अरागा पर निशाना साधते हुए उन्हें गैर जिम्मेदार और गृहमंत्री पद के लिए अनुपयुक्त करार दिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।