कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के लिए पंजाबी भाषा में 'बेला चाओ' गीत लॉन्च

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 24, 2020   15:51
कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के लिए पंजाबी भाषा में 'बेला चाओ' गीत लॉन्च

दिल्ली के एक स्कूल में गणित पढ़ाने वाले साहिल ने कहा, ‘‘मैंने अपने गीत के लिए कुछ मापदंड तय किए थे। जैसे ही मुझे यूट्यूब पर ‘कमेंट’ में गालियां पड़ने लगीं तो मुझे समझ आ गया कि यह थोड़ा मशहूर हो गया है...।’’

नयी दिल्ली। दुनियाभर में विरोध करने के लिए पहचाने जाने वाले गीत ‘बेला चाओ’ को 27 वर्षीय पूजन साहिल ने केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के लिए पंजाबी में जारी किया है। ‘यूट्यूब’ पर जारी किए गए इस गीत के वीडियो को एक सप्ताह से कम समय में 2.7 लाख से अधिक लोग देख चुके हैं और कई सोशल मीडिया मंचों पर भी यह वायरल हो गया है। दिल्ली के एक स्कूल में गणित पढ़ाने वाले साहिल ने कहा कि ‘‘भय, दुर्व्यवहार और निराशा’’ सामाजिक रूप से जागरूक किसी संगीतकार के लिए सही नहीं हैं। अगर उनके शब्द पिछले एक महीने से प्रदर्शन कर रहे हजारों किसानों को ताकत दें तो इससे सुकूल मिलता है। 

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ ने विधायकों को बुलाया भोपाल, कृषि कानूनों के विरोध में ट्रैक्टरों में बैठकर जाएंगे विधानसभा 

साहिल ने कहा, ‘‘मैंने अपने गीत के लिए कुछ मापदंड तय किए थे। जैसे ही मुझे यूट्यूब पर ‘कमेंट’ में गालियां पड़ने लगीं तो मुझे समझ आ गया कि यह थोड़ा मशहूर हो गया है...।’’ ‘बेला चाओ’ गीत को संशोधित नागरिकता कानून विरोधी प्रदर्शनों के दौरान हिंदी में भी जारी किया गया था। यह गीत 19वीं सदी के अंत में तब अस्तित्व में आया था जब उत्तरी इटली में महिला किसानों ने कामकाज की खराब स्थितियों के विरोध में इसे अपना हथियार बनाया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।