चुनावी वादों को पूरा करने में विफल रहने के आरोपों को लेकर बोले भगवंत मान, पंजाबियों, थोड़ा समय दो

Bhagwant Mann
अभिनय आकाश । Apr 11, 2022 7:32PM
भगवंत मान ने कहा कि प्रिय पंजाबियों, थोड़ा समय दीजिए। सब्र रखो। मेरे पास मेरी युक्तियों पर सब कुछ है। हम पंजाब को एक समृद्ध राज्य बनाने की जल्दी में न हों। इसके लिए कुछ समय की आवश्यकता होगी। सभी मसले हल हो जाएंगे। सभी की बात सुनी जाएगी।

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने एक फेसबुक पोस्ट में पंजाब के लोगों से तब तक धैर्य रखने को कहा जब तक कि राज्य सरकार चुनावी वादे पूरे नहीं कर लेती। इसके लिए उन्होंने कुछ समय मांगा है। भगवंत मान ने कहा कि  प्रिय पंजाबियों, थोड़ा समय दीजिए। सब्र रखो। मेरे पास मेरी युक्तियों पर सब कुछ है। हम पंजाब को एक समृद्ध राज्य बनाने की जल्दी में न हों। इसके लिए कुछ समय की आवश्यकता होगी। सभी मसले हल हो जाएंगे। सभी की बात सुनी जाएगी। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब पीसीसी के नवनियुक्त पदाधिकारियों ने राहुल गांधी से मुलाकात की

बता दें कि विपक्षी कांग्रेस, भाजपा और अकाली दल ने 300 मुफ्त बिजली यूनिट और प्रत्येक वयस्क महिला के लिए 1,000 रुपये प्रति माह देने जैसे चुनावी वादों को पूरा करने में विफल रहने को लेकर आप सरकार पर निशाना साधा है। आप के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने 29 जून 2021 को घोषणा करते हुए घोषणा की थी कि सरकार बनने के तुरंत बाद 300 मुफ्त बिजली यूनिट देने की गारंटी दी जाएगी। अब, आप नेतृत्व ने आश्वासन दिया है कि जून के महीने में पहला बजट पेश होने के बाद इस आशय के निर्णय की घोषणा की जाएगी।

इसे भी पढ़ें: पंजाब में 21 दिनों में हुई 19 हत्याएं, CM खा रहे हैं हिमाचल में ठंडी हवाएं, सिद्धू ने साधा AAP सरकार पर निशाना

गौरतलब है कि इससे पहले प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि पंजाब में कानून-व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है, जबकि सीएम हिमाचल की ठंडी हवाओं में वोट मांगने में व्यस्त हैं। औसतन रोजाना तीन से चार हत्याएं हो रही हैं, लोग दहशत में हैं। शिअद नेता दलजीत सिंह चीमा ने कहा कि आप के पंजाब में सरकार बनने के बाद से लोगों के मन में असुरक्षा की भावना है। पंजाब में आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार बनने के बाद पंजाबियों के मन में असुरक्षा की भावना पैदा हो गई थी। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़